झारखंड: माओवादियों से मुठभेड़ में घोड़े बरामद

झारखंड पुलिस का दावा है कि बांसपहाड़ जंगल में कथित माओवादियों के साथ भीषण मुठभेड़ में पुलिस ने भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद किए हैं. इनके अलावा 12 घोड़े भी पकड़े गए हैं.

पुलिस के अनुसार हथियारबंद दस्ते में शामिल लोग जंगलों में सामान ढोने के लिए इन घोड़ों का इस्तेमाल करते रहे हैं. पुलिस और माओवादियों के बीच गोलीबारी में एक घोड़ा मारा गया है.

ये मुठभेड़ नक्सल प्रभावित लातेहार और गुमला ज़िले की सीमा पर हुई. लातेहार के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक एमके भारती ने मुठभेड़ की पुष्टि की है.

Image caption मुठभेड़ में 12 घोड़े भी बरामद किए गए

पुलिस का दावा है कि घटनास्थल पर जगह- जगह मिले ख़ून के छींटों से आशंका जताई जा रही है कि हथियारबंद दस्ते के कुछ सदस्य भी हताहत हुए हैं. हालांकि इस मुठभेड़ में पुलिस को कोई नुक़सान नहीं पहुंचा है.

पुलिस अधीक्षक का दावा है कि कथित बड़े माओवादी अरविंद इस दस्ते का नेतृत्व कर रहे थे. दस्ते में 100 से अधिक माओवादियों के होने की आशंका है.

माओवादियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई में लातेहार, गुमला ज़िले की पुलिस के अलावा कोबरा बटालयिन के जवान शामिल थे.

पुलिस के मुताबिक़ घटना स्थल से 50 आइडी, 300 डेटोनेटर, रेडियो, लैपटॉप, जंगली इलाक़े के नक्शे, चिकित्सा किट, कपड़े समेत कई सामान बरामद हुए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार