पचौरी को मिली अग्रिम ज़मानत

  • 26 फरवरी 2015
आरके पचौरी

यौन उत्पीड़न के आरोपों का सामना कर रहे नोबेल पुरस्कार विजेता आरके पचौरी को कोर्ट से अग्रिम जमानत मिल गई है.

पचौरी के वकील आशीष भान ने बयान जारी कर कहा है कि ''हम बहुत ख़ुश हैं कि अदालत ने हमें प्रथम दृष्टया मामले को देखा और अग्रिम ज़मानत दे दी.

अदालत ने ये भी निर्देश दिए हैं कि ''पचौरी को पूछताछ के लिए हिरासत में लिए जाने की ज़रूरत नहीं है. अदालत की लगाई गईं सभी शर्ते सामान्य और नियमित हैं जिन्हें मामले की स्वतंत्र और निष्पक्ष जांच के लिए लगाया गया है.''

पर्यावरणविद आरके पचौरी ने मंगलवार को संयुक्त राष्ट्र की अंतरराष्ट्रीय जलवायु परिवर्तन पैनल (आईपीसीसी) के अध्यक्ष पद से इस्तीफ़ा दे दिया था.

पचौरी पर दिल्ली के ऊर्जा और संसाधन संस्थान (टेरी) में काम कर चुकी एक महिला कर्मचारी ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है.

इमेज कॉपीरइट AFP

पीड़िता की वकील ने कहा है कि इससे पहले भी पचौरी पर उत्पीड़न का आरोप लग चुका है.

74 साल के पचौरी पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली पीड़िता की वकील वृंदा ग्रोवर ने मामले में एफ़आईआर दर्ज होने का हवाला देकर अधिक जानकारी देने से इनकार कर दिया है.

हालांकि उन्होंने कहा कि इस मामले के प्रकाश में आने के बाद एक और महिला सामने आई है जिसने पचौरी पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है.

पचौरी लगातार इन सभी आरोपों को ग़लत बताते रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार