विवाद के बावजूद मुफ़्ती बयान पर क़ायम

जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री मुफ़्ती मोहम्मद सईद इमेज कॉपीरइट EPA

भारत प्रशासित जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री मुफ़्ती मोहम्मद सईद ने कहा है कि वो रविवार को दिए गए अपने बयान पर क़ायम है.

मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद सईद ने राज्य में हुए शांतिपूर्ण चुनावों का श्रेय पाकिस्तान, हुर्रियत और अलगवादियों को भी दिया था.

पीडीपी-भाजपा गठबंधन सरकार का नेतृत्व करने वाले मुफ़्ती के इस बयान की गूंज सोमवार को संसद में भी सुनाई दी और केंद्र सरकार ने ख़ुद को मुफ़्ती के इस बयान से अलग कर लिया.

लेकिन मुफ़्ती का कहना है, ''जो मैंने कहा, मैं उस पर क़ायम हूं.''

मांग

इस बारे में हो रहे विवाद पर उन्होंने कहा कि मीडिया ने राई का पहाड़ बना दिया.

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री मुफ़्ती मोहम्मद सईद ने शपथ ग्रहण समारोह में यूं लगाया प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को गले

मुफ़्ती ने संवाददाताओं से कहा कि पाकिस्तान ही नहीं, बल्कि भारत से आज़ादी मांगने वाले हुर्रियत ने भी इस बार चुनाव में उस तरह बाधा नहीं डाली जैसी वह डालते रहे हैं.

विपक्ष इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से स्पष्टीकरण की मांग कर रहा है.

लेकिन अपने पिता के बचाव में उतरीं पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ़्ती ने कहा कि जम्मू कश्मीर की जनता को शांति पूर्ण चुनाव का श्रेय नहीं देना मुख्यमंत्री के इस बयान का मतलब नहीं था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार