काठमांडू में फँसे हज़ारों यात्री

  • 7 मार्च 2015
काठमांडू हवाई अड्डे पर हज़ारों यात्री फंसे इमेज कॉपीरइट EPA

काठमांडू के हवाई अड्डे में तुर्की एयरलाइंस के विमान को क्रैश किए तीन दिन हो चुके हैं पर अधिकारियों के अनुसार अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को फिर से शुरू करने में असुविधा है रही है. ऐसा इसलिए क्योंकि क्रैश हुए हवाई जहाज़ को अभी भी रनवे से हटाया नहीं जा सका है.

इस कारण हज़ारों अंतरराष्ट्रीय यात्री काठमांडू में फंसे हुए हैं.

बीबीसी संवाददाता शरद केसी ने राजधानी काठमांडू से जानकारी दी है कि करीब 40,000 से 60,000 यात्री हैं जो काठमांडू और दूसरे अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों पर फंसे हुए हैं. इसका मतलब ये कि यात्री न तो नेपाल से बाहर जा पा रहे हैं न ही लोग दूसरे देशों से नेपाल पहुंच पा रहे हैं.

त्रिभुवन अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के जनरल मैनेजर रतीश चंद्र लाल सुमन और नागरिक उड्डयन ऑथोरिटी के प्रमुख ने बीबीसी को बताया कि केवल काठमांडू हवाई अड्डे में 21 हज़ार यात्री फंसे हुए हैं

इमेज कॉपीरइट EPA

रतीश चंद्र लाल सुमन ने बताया कि भारत से तकनीकी विशेषज्ञों की एक टीम आई है और इस काम में मदद कर रही है. इस टीम के साथ नेपाल आर्मी के क़रीब 400 जवान और पुलिस इस काम में लगे हुए हैं.

काठमांडू में इसका असर ये हुआ है कि फंसे हुए लोगों को होटल तक मिलने में भारी असुविधा हो रही है.

उधर त्रिभुवन अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के चीफ़ एअर ट्रैफ़िक कंट्रोलर ने कहा है, "विमान को रनवे पर लाया गया है और हम शनिवार से अंतरराष्ट्रीय सेवा शुरू करने में कामयाब हो जायेंगे."

इस सप्ताह तुर्की का एक विमान काठमांडू हवाई अड्डे पर रनवे से फिसल गया और पास में घास पर जाकर गिरा था जिससे विमान के अगले हिस्से को नुक़सान पहुंचा है. विमान में सवार सभी 224 यात्री सुरक्षित निकाल लिए गए थे.

उड़ानें रद्द

इमेज कॉपीरइट AFP

बीबीसी संवाददाता शरद केसी ने काठमांडू से बताया कि छोटे जहाज़ आंतरिक उड़ानें भर रहे हैं लेकिन बुधवार सुबह से काठमांडू की ओर आने और जाने वाली सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानों और बड़ी घरेलू उड़ानों को रद्द कर दिया गया है.

शरद ने विभिन्न देशों में फँसे नेपालियों से बात कर पता लगाया कि दूसरे हवाई अड्डों पर एयरलाइंस कंपनियां इन्हें मदद देने से इंकार कर रहीं हैं. अंतरराष्ट्रीय हवाई नियमों का हवाला देते हुए कंपंनियां दो दिन तक मदद मुहैया करने को तैयार हैं, लेकिन उससे अधिक नहीं.

इमेज कॉपीरइट EPA

इस दुर्घटना के चलते हवाई अड्डे से सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को 48 घंटे के लिए रद्द किया गया था. लेकिन तीसरे दिन भी उड़ानें रद्द है.

यात्री प्रभावित

दोहा स्थित पत्रकार होम कार्की का कहना है कि फँसे यात्रियों को रहने और खाने की असुविधा हो रही है. उन्होंने कहा "क़तर एयरलांइस ने यात्रियों के लिए खाने की व्यवस्था की थी पर उनके ठहरने को ले कर कोई ख़ास व्यवस्था नहीं है."

इमेज कॉपीरइट Reuters

नेपाल की राजधानी में स्थित यह देश का एकमात्र हवाई अड्डा है जहां से रोज़ अस्सी अंतरराष्ट्रीय और दर्जनों घरेलू उड़ानें उड़ान भरती हैं.

अधिकारियों के अनुसार शाम तक जहाज़ को रनवे से खींच कर पार्किंग क्षेत्र की तरफ ले जाया सका तो शनिवार को उड़ानें चालू कर दी जाएंगी. काठमांडू आने और जाने वाले यात्रियों के लिए चौबीसों घंटे अंतरराष्ट्रीय उड़ानें चलाई जाएंगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार