'पाक का हश्र देखा, भारत में वो न हो'

पंजाब में उग्रवाद के वक़्त वहां के पुलिस प्रमुख रह चुके जुलियो रिबेरो ने कहा है कि हिंदू दक्षिणपंथियों की कार्रवाई से भारत उसी ख़तरनाक राह पर चल रहा है जिसका अंजाम आज पाकिस्तान में नज़र आ रहा है.

बीबीसी के साथ बातचीत में रिबेरो ने कहा कि पाकिस्तान ने जो रास्ता अपनाया उसका नतीजा आज सबके सामने है और इसीलिए भारत को उस तरफ़ जाने से रोकना होगा.

रिबेरो ने हाल में इंडियन एक्सप्रेस में एक लेख में कहा कि हाल के दिनों में जो कुछ हो रहा है उससे ईसाई समुदाय में डर का माहौल है.

पढ़ें जुलियो रिबेरो ने बीबीसी से क्या कहा

"हिन्दू दक्षिणपंथी भारत में जो कर रहे हैं वो बहुत ख़तरनाक है. पाकिस्तान में जनरल ज़िया ने कट्टरपंथ का जो रास्ता दिखाया उसका नतीजा वहाँ आज दिख रहा है.

दक्षिणपंथियों ने जो धीरे-धीरे शुरू किया था उसमें अब तेज़ी आ गई है. उसको रोकने की ज़रूरत है.

इमेज कॉपीरइट AP

मेरे जिस लेख पर चर्चा हो रही है उसमें मैंने थोड़ी अतिश्योक्ति का प्रयोग किया है वो बस इसलिए ताकि लोग इस पर ध्यान दें. अगर मेरे अलावा किसी ने ये कहा होता तो इसे कूड़ेदान में फेंक दिया जाता. इस देश को पाकिस्तान जैसा नहीं बनाना है.

नई सरकार के आने के बाद

मैं स्वीकार करता हूँ कि पहले भी ऐसी चीज़ें होती रही हैं लेकिन केंद्र में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनने के बाद ये घटनाएँ काफ़ी बढ़ गई हैं.

कट्टरपंथियों के दिमाग़ से ये बात निकालनी चाहिए कि वो जो चाहें कर सकते हैं.

ईसाई चर्चों और स्कूलों पर हो रहे हमलों को लेकर लोगों में थोड़ा भ्रम है. उन्हें लग रहा है कि हमने देश के शिक्षा और स्वास्थ्य क्षेत्र में जो योगदान दिया है उसे नज़रअंदाज़ किया जा रहा है.

'सौ सालों बाद घर वापसी'

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption दिल्ली का चर्च जिस पर हमला हुआ था

भाजपा के लोग घर वापसी के लिए आंदोलन चला रहे हैं. गोवा में हमारे पूर्वजों ने चार-पाँच सौ साल पहले धर्म बदला था. अब इतने सौ सालों बाद हम क्या 'घर वापसी' करेंगे.

विश्व हिन्दू परिषद ने भी हाल में बयान दिया है कि गोवा में बजरंग दल की एक शाखा तैयार की जाएगी. बजरंग दल एक ख़तरनाक संगठन है.

गोवा में शांति है वो वहां हंगामा खड़ा करना चाहते हैं.

सरकार को ऐसे तत्वों को रोकने के लिए राजनीतिक इच्छाशक्ति दिखानी होगी.

जो कुछ हो रहा है वो इस देश को पीछे की तरफ़ ले जाएगा."

(बीबीसी संवाददाता विनीत खरे से बातचीत पर आधारित)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार