बेगूसराय के बीहट में लड़कियों की हु-तू-तू

  • 22 मार्च 2015
बिहार के बेगूसराय के बीहट में कबड्डी का खेल इमेज कॉपीरइट Other

बिहार के बेगूसराय के बीहट गांव की सुबह ही कबड्डी के हु तू तू से शुरू होती है. लड़कियां शॉर्ट्स पहनकर अपनी विरोधी टीम पर दांव आजमाती हैं.

जांघों पर थाप देकर जब वो खुद में उत्साह भरती हैं तो उससे निकलने वाली आवाज़ बिहार के सामंती समाज को चुनौती देती लगती है.

बीहट गांव की आबोहवा में कबड्डी रचती बसती है. बिहार के विभाजन के बाद से ही राज्य टीम में हर साल बीहट गांव के दो से तीन खिलाड़ी रहते हैं.

पढ़ें विस्तार से

इमेज कॉपीरइट Other

और ये संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. साल 2014 की बात करें तो सब जूनियर, जूनियर और सीनियर राज्य स्तरीय टीम में यहां के नौ लड़के और 13 लड़कियां थीं.

आलम ये है कि बीते नौ साल से सब जूनियर और जूनियर स्तर की स्टेट चैंपियनशिप पर बीहट की बदौलत बेगूसराय का कब्जा है.

यही वजह है कि बीहट को अब कबड्डी की नर्सरी कहा जाने लगा है. इस कबड्डी की नर्सरी की एक पौध रेमी है.

अखबार में फोटो

इमेज कॉपीरइट Other

रेमी राष्ट्रीय स्तर पर कबड्डी खेलती है और एशियाड के कैम्प में उनका चुनाव हो चुका है.

रेमी बताती है, "2005 में जब खेलना शुरू किया तो शॉर्ट्स पहनने पर ताने मिलते थे. खुली जांघों को देखकर लड़कियां कहती थीं कि पेपर लपेट लो. पापा को भी दो साल तक ये पता था कि मैं सिलाई सीखने जाती हूं लेकिन एक दिन अखबार में फोटो निकला तो बात घर में खुल गई."

किसान परिवार

इमेज कॉपीरइट Other
Image caption अंतरराष्ट्रीय रेफरी पन्ना लाल

बीहट में फिलहाल कबड्डी सिखाने की बागडोर श्याम सिंह उर्फ पन्ना लाल ने संभाल रखी है जो अंतरराष्ट्रीय रेफरी हैं.

पन्ना लाल बताते हैं, "70 के दशक से ही यहां लड़के–लड़कियां कबड्डी खेलते हैं. 80 के दशक में ही यहां के सुनील सिंह ने नैशनल खेला और लड़कियों में विभा कुमारी ने."

दिलचस्प है कि कबड्डी से जुड़े ज्यादातर खिलाड़ी किसान परिवार के हैं और एक खास अगड़ी जाति से आते हैं. पिछड़ी जाति से आने वाले खिलाड़ियों की संख्या बेहद कम है.

नैशनल खेल

इमेज कॉपीरइट Other

सरिता उनमें से एक है. सातवीं में पढ़ने वाली सरिता की पांच बहनों की शादी 15 साल में ही कर दी गई लेकिन सरिता की शादी करने से उसके पिता ने इंकार कर दिया.

वजह बताते हुए सरिता कहती हैं, "मेरे घर के बगल में एक देवंती दीदी थी जिन्हें कबड्डी के जरिए ही सचिवालय में नौकरी लगी. जब ये बात पापा को पता चली तो उन्होंने मुझे कबड्डी सीखने को कहा. मैं तीन बार नैशनल खेल चुकी हूं और कबड्डी खेलकर नौकरी में जाउंगी."

अनुशासन के साथ

इमेज कॉपीरइट Other

बीहट की तरह ही बरौनी में भी ये खेल लड़कियां बड़े अनुशासन के साथ खेलती हैं. भक्तियोग पुस्तकालय के कैम्पस (खेलगांव) में रोजाना 30 लड़कियां सुबह शाम प्रैक्टिस करती हैं.

इन लड़कियों में से रीति और नीतू नैशनल खेल चुकी हैं. रीति की बड़ी बहन प्रीति ने भी 16 बार नैशनल खेला. लेकिन शादी के बाद प्रीति कबड्डी ग्रांउड पर वापस नहीं लौटीं.

आर्थिक मदद

इमेज कॉपीरइट Other
Image caption बेगूसराय ज़िला कबड्डी संघ के सहसचिव परमानंद.

रीति इस मुश्किल के बारे में बताती हैं, "हम सब गरीब परिवार से आते हैं. कबड्डी खेलकर भी जब कुछ नहीं मिलता तो घर वाले परेशान हो जाते हैं. वो ताने देते हैं कि हॉफ पैंट पहनकर नौकरी नहीं मिलेगी, उल्टे बदनामी हाथ लगेगी."

हालांकि कबड्डी के लिए आधारभूत संरचना की बात करें तो इन गांवों में हर तरफ इसका अभाव है. यहां ना तो स्टेडियम है और ना ही कबड्डी खेलने के लिए मैट.

इमेज कॉपीरइट Other

वामपंथियों के गढ़ रहे इस इलाके में कबड्डी तो फल फूल रही है लेकिन उसे आगे बढ़ने के लिए आर्थिक मदद चाहिए.

जैसा कि बेगूसराय ज़िला कबड्डी संघ के सहसचिव परमानंद कहते है, "12 लड़कियां कबड्डी सीखने के लिए इस सत्र में कह चुकी हैं लेकिन हमारे पास जब उनकी जर्सी के पैसे हों तब तो हम उनकी भर्ती करें."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार