'समाजसेवा धर्मपरिवर्तन के बिना संभव नहीं?'

  • 23 मार्च 2015
राजनाथ सिंह इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption राजनाथ सिंह

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि भारत सभी धर्मों का सम्मान करता है और उनके शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व में विश्वास रखता है.

हाल में दिल्ली की चर्चों में चोरी, हरियाणा के हिसार और मध्य प्रदेश के जबलपुर में चर्च पर हुए हमले के बाद अल्पसंख्यकों के बीच डर का माहौल है.

राजनाथ सिंह राज्य अल्पसंख्यक आयोग की कॉन्फ्रेंस में बोलते हुए डर दूर करने का प्रयास किया है लेकिन साथ ही कुछ अन्य मुद्दे भी उठाए हैं.

Image caption राजनाथ सिंह

राजनाथ ने कहा, '' मैं उपस्थित जनसमूह के सामने कुछ सवाल उठाना चाहता हूं. इन मुद्दों पर राष्ट्रीय बहस होनी चाहिए - क्या भारत में धर्मांतरण का सहारा लिए बिना समाजसेवा नहीं की जा सकती है? भारत जैसा देश जनसांख्यिकी प्रोफाइल में बदलाव की इजाज़त कैसे दे सकता है?"

उन्होंने दूसरे देशों का हवाला देते हुए कहा, "दूसरे देशों में अल्पसंख्यक अपनी सुरक्षा के लिए 'धर्मांतरण विरोधी' कानून की मांग करते हैं, लेकिन भारत में स्थिति अलग है.''

उन्होंने कहा ''हमारे यहां इस्लाम के सभी 72 संप्रदाय शांति से रहते हैं. केरल में दुनिया की सबसे पुरानी चर्च है. दुनिया में भारत जैसी विविधता में एकता वाला कोई दूसरा देश नहीं है."

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार