सीबीआई करेगी आईएएस रवि की मौत की जाँच

इमेज कॉपीरइट imran qureshi

कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धरमैया ने आख़िरकार दबाव के आगे झुकते हुए आईएएस अधिकारी डीके रवि की मौत की जाँच सीबीआई के हवाले कर दी.

सिद्धरमैया ने विधानसभा में कहा, "हम अधिकारी के माता-पिता के प्रति सम्मान दिखाते हुए ऐसा कर रहे हैं, न कि राजनीति कर रहे विपक्ष की मांग पर."

वाणिज्यिक कर विभाग में संयुक्त आयुक्त के पद पर तैनात 36 वर्षीय रवि 16 मार्च को संदेहजनक स्थिति में मृत पाए गए थे.

मामले की सीबीआई जाँच की मांग को लेकर प्रदर्शन हो रहे थे और भारतीय जनता पार्टी तथा जनता दल सेकुलर ने विधानसभा के बाहर रातभर धरना भी दिया था.

सिफ़ारिश

मुख्यमंत्री विपक्ष के दबाव के आगे नहीं झुके लेकिन शुक्रवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का फ़ोन आने के बाद उन्होंने सोमवार को मंत्रिमंडल की बैठक बुलाकर मामले की सीबीआई जाँच की सिफ़ारिश कर दी.

रवि की कथित आत्महत्या पर इसलिए सवाल उठ रहे हैं क्योंकि उनकी छवि एक ईमानदार अधिकारी की थी और कोलार ज़िले के उपायुक्त रहते हुए उन्होंने रेत माफिया के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई की थी.

माना जाता है कि सिद्धरमैया ही उन्हें वाणिज्यिक कर विभाग में संयुक्त आयुक्त के पद पर लाए थे. इस पद पर रहते हुए उन्होंने टैक्स चोरी करने वालों के ख़िलाफ़ कार्रवाई की थी.

आरोप

इमेज कॉपीरइट siddaramiah website

विपक्ष का आरोप है कि रवि की मौत आत्महत्या का सामान्य मामला नहीं है.

लेकिन सरकार ने विधानसभा में कहा कि रवि ने व्यक्तिगत कारणों से आत्महत्या की है. मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक़ रवि ने अपनी एक बैचमेट महिला अधिकारी के समक्ष शादी का प्रस्ताव रखा था लेकिन उसने इससे इनकार कर दिया. महिला अफ़सर पहले से ही शादीशुदा थीं.

सिद्धरमैया ने सीआईडी जाँच की अंतरिम रिपोर्ट विधानसभा में नहीं रखी. उनका कहना था कि उच्च न्यायालय के आदेश के कारण वह ऐसा नहीं कर सकते.

अदालत ने रवि की महिला बैचमेट के पति की अपील पर जाँच पूरी होने तक इस बारे में कोई भी जानकारी सार्वजनिक किए जाने पर रोक लगा रखी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार