कॉन्वेंट हथियारबंद गार्ड तैनात करें: चर्च

कोलकाता, बलात्कार विरोधी प्रदर्शन इमेज कॉपीरइट P.M.TEWARI

पश्चिम बंगाल में सभी कान्वेंट स्कूलों का प्रबंधन और संचालन करने वाली दो चर्चों ने स्कूलों को सुरक्षा व्यवस्था मज़बूत करने की सलाह दी है.

राज्य के नदिया ज़िले में हाल में एक कान्वेंट में डकैती और बुज़ुर्ग नन के साथ सामूहिक बलात्कार हुआ था लेकिन किसी भी दोषी को फ़िलहाल पकड़ा नहीं जा सका है.

अब जलपाईगुड़ी ज़िले में एक कान्वेंट स्कूल को लगातार पांच धमकी भरे पत्र मिलने के बाद इलाक़े में भय बढ़ गया है और चर्चों ने स्कूलों को यह सलाह दी है.

राज्य की रोमन कैथौलिक चर्च और चर्च आफ नॉर्थ इंडिया ने अलग-अलग निर्देशों के तहत दूरदराज के इलाकों में स्थित कॉन्वेंट स्कूलों से हथियारबंद सुरक्षा गार्ड तैनात करने और सीसीटीवी कैमरे लगाने को कहा है.

'रानाघाट के बलात्कारी'

इमेज कॉपीरइट P.M.TEWARI

रानाघाट की घटना के अगले दिन ही जलपाईगुड़ी के एक क्रिश्चियन स्कूल को धमकी भरा पत्र आया और फिर चार और पत्र भेजे गए.

इनमें लिखा था कि स्कूल की नन इलाक़ा छोड़ कर नहीं गईं तो उनके साथ भी रानाघाट जैसा ही हाल होगा. साथ ही स्कूल में आग लगाने की धमकी भी दी गई है.

पत्र लिखने वालों ने ख़ुद को 'रानाघाट के बलात्कारी' बताया है.

पुलिस में शिकायत दर्ज होने के बाद वहां पुलिस के चार हथियारबंद जवानों को तैनात किया गया है.

गांववालों का साथ

चायबागानों से घिरे उस चंपागुड़ी इलाके में एक-दूसरे से सटे शिक्षा संस्थान हैं - सेंट कैप्टेनियो और सेंट मेरीज़ स्कूल .

धमकियों मिलने के बाद स्थानीय लोगों ने स्कूलों की सुरक्षा का संकल्प लिया है और एक समिति बनाने की पहल की है.

स्थानीय निवासी पवन खेरवार कहते हैं, "यह स्कूल हमारे गौरव हैं. इसलिए हम खुद ही यहां आने-जाने वालों पर निगाह रख रहे हैं."

इमेज कॉपीरइट P.M.TEWARI

एक स्थानीय दुकानदार जगदीश उरांव कहते हैं, "यह स्कूल ही चंपागुड़ी की पहचान हैं. हम हर हाल में इनकी सुरक्षा करेंगे."

एक स्कूल से जुड़े फ़ादरमैथ्यूज केरकेट्टा कहते हैं, "धमकी भरे पत्रों की वजह से हम कुछ परेशान तो हैं. लेकिन गांव वालों का समर्थन मिलने की वजह से हम सुरक्षित महसूस कर रहे हैं."

'सुरक्षा गार्ड ज़रूरी'

जलपाईगुड़ी के एसपी ए रवींद्रनाथ ने मंगलवार को स्कूल का दौरा किया. वे कहते हैं, "वहां पुलिस के जवानों तैनात कर दिया गया और जांच चल रही है."

कोलकाता में रोमन कैथोलिक चर्च के फ़ादर डोमिनिक गोम्स कहते हैं, "रानाघाट और जलपाईगुड़ी की घटनाओं को देखते हुए हथियारबंद सुरक्षा गार्ड ज़रूरी हैं."

इमेज कॉपीरइट P.M.TEWARI

चर्च आफ नॉर्थ इंडिया के बिशप अशोक विश्वास कहते हैं, "हम अब कोई और खतरा नहीं मोल ले सकते."

बंगाल में तमाम चर्चों के प्रमुख आर्च बिशप ने भी निजी सुरक्षा व्यवस्था पर जोर दिया है.

उनकी चिंता है कि तमाम कोशिशों के बावजूद रानाघाट मामले में 10-12 दिनों बाद भी किसी अभियुक्त को गिरफ्तार नहीं किया जा सका है.

राज्य के पुलिस महानिदेशक जीएमपी रेड्डी कहते हैं, "हम तमाम कॉन्वेंट स्कूलों पर कड़ी नजर रख रहे हैं. जलपाईगुड़ी में धमकी भरे पत्र मिलने के बाद वहां पुलिस टुकड़ी तैनात की गई है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार