पटना में भिखारियों का 'अनोखा नाट्य दल'

भिखारियों का नाट्य दल, पटना, बिहार इमेज कॉपीरइट Other

वो अपनी साड़ी के पल्लू में मुंह छिपाकर हंसती है. रिहर्सल में अगर उनका मन नहीं है तो बार-बार समझाने के बाद भी संवाद नहीं बोलती.

एक अभिनेता का डॉयलॉग पूरा हो जाने के बाद दूसरा अभिनेता बहुत उकसाने पर बोलता है. कड़ाई से कुछ बोल दीजिए तो साफ़ कह देती हैं कि नाटक करना हमारे बस का नहीं.

लेकिन अगले पल मान मनौव्वल के बाद ये अनपढ़ औरतें नाटक करने को तैयार हो जाती हैं. अभिनय के किसी मापदंड को पूरा नहीं करने वाला ये नाट्य दल भिखारियों का है.

पढ़ें, विस्तार से

इमेज कॉपीरइट Other

इनकी प्रस्तुति आपको बेरंग लग सकती है. लेकिन एक पल को ये जानकर आप हैरान रह जाएंगे कि भिखारियों ने भिक्षावृत्ति मिटाने के लिए ये नाट्य दल तैयार किया है.

बिहार की राजधानी पटना में ये छोटी सी कोशिश हो रही है. संस्था 'शांति कुटीर' ने भिक्षावृत्ति को रोकने के लिए ये तरीका निकाला है.

संस्था भिखारियों को ही नाटक सिखाती है और ये नाट्य दल शहर की उन सार्वजनिक जगहों पर नाटक करता है जो भिखारियों के अड्डे हैं.

नुक्कड़ नाटक

इमेज कॉपीरइट Other
Image caption भिखारियों के नाट्य दल की सदस्य मीना.

50 साल की मीना इसी नाट्य दल की सदस्य हैं.

शराब की लत का शिकार रही मीना बताती हैं, "शुरू में बहुत गुस्सा आता था. लेकिन अब मन शांत रहता है. अच्छा कपड़ा पहनते हैं, अच्छे से खाना खाते हैं."

भिखारियों के इस नाट्य दल में सात भिखारी हैं. पटना शहर के कई हिस्सों में नुक्कड़ नाटक 'जिसे कल तक देते थे बददुआ, उसे आज देते हैं दुआ' कर चुके हैं.

संस्था बिहार दिवस 2015 के मौके पर भी नाटक कर चुकी है.

काउंसलिंग

इमेज कॉपीरइट Other
Image caption दिग्विजय

बिहार सरकार की भिखारियों को मुख्यधारा में लाने की पहल के तहत संस्था ने जून 2014 में भिखारियों के एक समूह को नाटक सिखाना शुरू किया था.

शुरुआत में नाट्य दल तैयार करने के लिए संस्था के ट्रेनर दिग्विजय ने भिखारियों की कांउसलिंग की.

दिग्विजय बताते हैं, "हम लोगों ने तीन–चार बार हर एक से बात की और उसके बाद हमने कुछ लोगों को छांटा जो कम से कम संवाद अदायगी कर सकते हों."

नाटक के संवाद

इमेज कॉपीरइट Other

दिग्विजय ने कहा, "दरअसल, खराब हालात में लगातार रहने को मजबूर ये लोग सामान्य व्यवहार नहीं करते. दूसरा यह कि नाट्य दल के सभी सदस्य अनपढ़ हैं, ऐसे में नाटक के संवाद याद करना लगभग नामुमकिन है."

वे कहते हैं, "चूंकि नाटक भिक्षावृत्ति से जुड़ा हुआ है, इसलिए उन्हें इन परिस्थितियों को अपने अनुभवों से जोड़ने में ज्यादा मुश्किल नहीं होती. वो खुद संवाद अपने मन में तैयार करते हैं और बोलते हैं."

इस नाट्य दल में 10 साल से लेकर 70 साल तक की उम्र की औरतें शामिल हैं.

कलाकारों का आत्मविश्वास

इमेज कॉपीरइट Other
Image caption शांति कुटीर की निदेशक राखी शर्मा

फिलहाल शांति कुटीर में 68 महिला भिखारियों को रखा गया है और उनके पुनर्वास की कोशिशें की जा रही हैं.

कभी भीख मांगने वाली सविता जब अपने साथियों को नाटक करते देखती है तो रोमांच से भर जाती है.

सविता कहती हैं, "हमें भी नाटक करने का मन करता है, लेकिन बहुत लाज आती है बोलते हुए."

संस्था की निदेशक राखी शर्मा कहती हैं, "कलाकारों के बीच का तारतम्य, उनकी संवाद अदायगी, हो सकता है कि आपको खूबसूरत न लगें. लेकिन इनके जीवन में आ रहे बदलाव और इनका आत्मविश्वास बहुत खूबसूरत है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार