खुल कर सामने आई 'आप' की दरार

योगेंद्र यादव इमेज कॉपीरइट DALJEET AMI

आम आदमी पार्टी (आप) के नेता योगेंद्र यादव और प्रशांत भूषण ने कहा है कि उन्होंने पार्टी से इस्तीफ़ा नहीं दिया है.

दोनों नेताओं ने शुक्रवार को नई दिल्ली के प्रेस क्लब में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में यह बात कही.

पार्टी से मांग

इमेज कॉपीरइट AFP

योगेंद्र यादव ने कहा कि उन्होंने और प्रशांत भूषण ने 17 मार्च को एक चिट्ठी लिखकर कहा था कि अगर पार्टी में स्वराज, पारदर्शिता, पार्टी को आरटीआई के दायरे में लाने जैसी चार-पांच मांगों को मान लिया जाए, जिससे पार्टी बची रहे, तो वे अपने पदों से इस्तीफ़ा दे देंगे.

उन्होंने कहा, "हमने जो मांगें अपने पत्र में उठाई थीं, उन पर अमल तो नहीं किया गया है. उलटे हमारे इस्तीफ़े की बात की जा रही है, जो सरासर गलत है."

प्रशांत भूषण ने कहा कि उन्होंने पार्टी के सचिव पंकज गुप्त को पत्र लिखकर शनिवार को होने वाली पार्टी की राष्ट्रीय परिषद की बैठक की वीडियोग्राफी कराने की मांग की है.

योगेंद्र यादव ने कहा कि राष्ट्रीय परिषद की बैठक से पहले कार्यकारी परिषद की बैठक होनी चाहिए.

सोशल मीडिया की सरगर्मी

इमेज कॉपीरइट pti
Image caption प्रशांत भूषण ने राष्ट्रीय परिषद की बैठक की वीडियोग्राफ़ी कराने की मांग की है.

इस बीच, आप में जारी घमासान पर सोशल मीडिया पर भी चर्चा शुरू हो गई है. ट्विटर पर #WarInAAP ट्रेंड कर रहा है.

इस हैशटैग के साथ शेखर वर्मा (@Saffron_Shekhar) ने लिखा है, "हनीमून ख़त्म होने से पहले ही तलाक हो गया."

सुनैना (@fanssay) ने लिखा, "अरविंद केजरीवाल ने किया क्या है, इतना हल्ला क्यों मचा है. उन्होंने क्या अपराध किया है, उन्हें काम करने दिया जाए."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं. )

संबंधित समाचार