दीपिका की 'च्वॉयस' पर उठ रहे हैं सवाल भी

  • 30 मार्च 2015
दीपिका पादुकोण वीडियो 'माई च्वॉयस' में इमेज कॉपीरइट HOMI ADAJANIA

फ़िल्म स्टार दीपिका पादुकोण के वीडियो ‘माई च्वॉयस’ पर सोशल मीडिया में काफ़ी प्रतिक्रिया हो रही है. वीडियो के लिए उन्हें तारीफ़ मिल रही है तो कुछ लोग इसकी आलोचना भी कर रहे हैं.

इस वीडियो में दीपिका यह कहती हुई दिखती हैं, "यह उनका बदन है तो सोच भी उनकी है और फ़ैसला भी उनका है. कोई औरत किससे शादी करे, किससे यौन संबंध बनाए और किसके बच्चे की मां बनें, यह फ़ैसला उसे ही करना है, किसी दूसरे को नहीं."

इस वीडियो का निर्देशन होमी अदजानिया ने किया है.

'नारी सशक्तीकरण

इमेज कॉपीरइट Raindrop Media

वीडियो पर ट्वीट करने वालों में आम लोगों के साथ ही कई सेलेब्रिटीज़ भी शामिल हैं.

सुपरस्टार अमिताभ बच्चन ने अपने ट्वीट में इसे नारी सशक्तिकरण बताते हुए कहा है कि अदजानिया ने दो मिनट के वीडियो में उचित मुद्दा उठाया है.

फ़रहान अख़्तर का मानना है कि 99 महिलाओं ने एकजुट होकर सशक्त और प्रासंगिक बात कही है.

शबाना आज़मी ने कहा है कि हर किसी को यह वीडियो देखना चाहिए. अभिनेता अर्जुन कपूर महिलाओं से कहते हैं कि वे ताक़तवर बनें और अपने फ़ैसले ख़ुद करें.

यही बात पुरुष कहें तो?

इमेज कॉपीरइट TWITTER

दूसरी ओर, कई लोग दीपिका से इत्तेफ़ाक नहीं रखते.

अमृता मुखर्जी ने दीपिका से कुछ तीखे सवाल अपने फ़ेसबुक वॉल पर पूछे हैं. वह सवाल करती हैं, "क्या कोई औरत यह चाहेगी कि उसका पति भी विवाहेतर यौन संबंध बनाए?"

मुखर्जी के मुताबिक़, "अगर साइज़ ज़ीरो या साइज़ 15 होना अपनी मर्जी है तो फिर दीपिका वजन कम करन वाले खाद्य पदार्थों का विज्ञापन क्यों करती हैं?"

'यह मेरी पसंद तो नहीं'

इमेज कॉपीरइट AFP

ट्विटर पर भी लोगों ने कई तरह के सवाल उठाए हैं. कसांड्रा क्लेअर ने ट्वीट कर कहा है कि यह उनकी पसंद नहीं है, हालांकि वे अब उन्मुक्त होने की कोशिश कर रही हैं.

ऑलवेज़ कहती हैं कि यह उनकी पसंद तो नहीं ही है. द बैड डॉक्टर पूछते हैं कि क्या पुरुषों की भी कोई पसंद है या वह सिर्फ़ इसलिए है कि कोई भी औरत उस पर उंगली उठाती रहे?

बीहेविंग पूछते हैं कि यदि इसी वीडियो में दीपिका की जगह यो यो हनी सिंह या कोई दूसरा पुरुष होता और यही सवाल उठाता तो कैसा रहता?

पुरुषवादी मानसिकता?

इमेज कॉपीरइट AP

इंडियास्पीक्स ट्विटर अकाउंट के मुताबिक़ वह पुरुषवादी मानसिकता वाले उस आदमी की तलाश में हैं, जिसने दीपिका को बहला-फुसला कर यह बेकार का काम उनसे करवाया है.

नंदिता ठाकुर कहती हैं कि 'माई च्वॉयस' यदि औरतों को ताक़तवर बनाने के लिए है तो नारी सशक्तिकरण की मौत हो चुकी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार