गिरिराज के बयान को लालू ने कहा 'गंदी बात'

गिरिराज सिंह इमेज कॉपीरइट PTI

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के बारे में केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह के आपत्तिजनक बयान पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है.

गिरिराज सिंह ने कहा था, "अगर राजीव जी किसी नाइजीरियन लेडी से बियाह किए होते, गोरी चमड़ी ना होता, तो क्या कांग्रेस पार्टी उनका नेतृत्व स्वीकारती."

लालू प्रसाद यादव ने गिरिराज के बयान को 'गंदी बात और डर्टी पाॅलिटिक्स' कहा है.

उन्होंने कहा, "आरएसएस एक गंदा संगठन है."

इमेज कॉपीरइट manish shandilya

वहीं नीतीश कुमार ने कहा, "गिरिराज सिंह का बयान स्तरहीन है."

सामाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़, नाइजीरिया के कार्यकारी उच्चायुक्त ओबी ओकोंगोर ने भी कड़ी आपत्ति जताई और कहा, "हमें उम्मीद है कि मंत्री अपना बयान वापस लेंगे और नाइजीरिया के लोगों से माफ़ी मांगेंगे. हम सरकार को भी इस मसले के बारे में सूचित करेंगे."

सोशल मीडिया

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह का सोनिया गांधी पर दिया गया बयान ट्विटर और फ़ेसबुक पर ट्रेंड कर रहा है और लोग उस पर लगातार प्रतिक्रिया दे रहे हैं.

भड़काऊ भाषण: गिरिराज सिंह के ख़िलाफ़ एफ़आईआर

सोशल मीडिया पर ज़्यादातर लोग गिरिराज सिंह के इस बयान की आलोचना कर रहे हैं और इसे रंगभेदी बयान बता रहे हैं.

लेकिन कुछ लोग गिरिराज सिंह का समर्थन भी कर रहे हैं.

मोदी 'डांटते कम हैं, इनाम ज़्यादा देते हैं'

हलांकि बाद में गिरिराज सिंह ने अपने बयान पर खेद जताते हुए कहा, "अगर मेरे बयान से राहुल जी या सोनिया जी को ठेस पहुंची हो तो मैं माफ़ी मांगता हूं."

भारतीय जनता पार्टी ने भी उनके बयान से किनारा कर लिया है.

सोशल मीडिया गर्म

बीबीसी फ़ेसबुक के पन्ने पर नीलेश कुमार यादव लिखते हैं, "जब एक मंत्री ऐसी हल्की बातें करेगा तो उस देश की आम जनता क्या करेगी."

निसार अहमद ने लिखा, "केंद्रीय मंत्री का बयान पूरी तरह से आपत्तिजनक और असंवैधानिक है."

प्रबल कुमार कहते हैं, "नेतृत्व रंग से नहीं दिमाग से होता है."

'रामजादे' वाले बयान पर मांगी माफ़ी

उदित कुमार लिखते हैं, "गिरिराज सिंह सरीखे नेता बोलने की आज़ादी का फ़ायदा उठाकर मूर्खतापूर्ण बयानबाज़ी कर रहे हैं."

वहीं विकी राजपूत लिखते हैं, "गिरिराज का सवाल जायज़ है. कांग्रेस को इसका जवाब देना चाहिए."

शोला शर्मा की भी यही राय है. वहीं राजीव कुमार लिखते हैं, "गिरिराज जैसे नेता कथित हिंदू राजनीति का ढोंग करते हैं और ऐसे घटिया बयान देते हैं. इन्हें हिंदू संस्कार का एबीसी भी नहीं पता."

ट्विटर पर ट्रेंडिंग

इमेज कॉपीरइट EPA

ट्विटर पर गिरिराज सिंह का ये बयान ट्रेंड कर रहा है.

अमित श्रीवास्तव ने ट्वीट किया, "अप्रैल फ़ूल डे पर गिरिराज सिंह का मूर्खतापूर्ण बयान."

वहीं कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने लिखा, "गिरिराज सिंह का बयान हिला देने वाला, दुर्भावना से प्रेरित और निंदनीय है. एक मंत्री को ऐसा ओछा बयान शोभा नहीं देता."

वहीं पुरुषोत्तम पुरोहित लिखते हैं, "कांग्रेस प्रेसीडेंट बनने के लिए गोरा या काला नहीं बल्कि गांधी होना ज़रूरी है."

बीनू नैयर का कहना है, "क्या हम अपनी दोहरी मानसिकता से ऊपर उठेंगे और मानेंगे कि गिरिराज ने जो सवाल उठाया वो जायज़ है."

वरिष्ठ पत्रकार तवलीन सिंह ने ट्वीट किया, "गिरिराज ने जो कहा वो निहायत ही पॉलिटिकली इनकरेक्ट है, लेकिन क्या ये सही नहीं है? गोरी चमड़ी के प्रति हम भारतीयों की आसक्ति भला किससे छुपी है."

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार