अंतिम संस्कार करने पर बहन को कुल्हाड़ी से काटा

  • 2 अप्रैल 2015
गीता इमेज कॉपीरइट CG KHABAR
Image caption गीता हाल ही में सरपंच भी चुनी गई थीं.

छत्तीसगढ़ के मोहदा गांव में मां का अंतिम संस्कार बहन के हाथों किए जाने से नाराज़ भाई ने अपनी बहन की कुल्हाड़ी से काट कर हत्या कर दी.

रायपुर के आईजी पुलिस जीपी सिंह के मुताबिक़, तेजराम वर्मा अंतिम संस्कार के बाद से अपनी बहन से नाराज़ था.

अभियुक्त को गिरफ़्तार कर उससे पूछताछ की जा रही है.

थाना प्रभारी अलीम ख़ान के अनुसार, पति की मौत और बेटे से अनबन होने के बाद 80 वर्षीया सुरुजबाई पिछले 20 साल से अपनी बेटी गीता के घर रह रही थीं.

सुरुजबाई की देखभाल गीता ही करती थीं और बेटे तेजराम वर्मा से कोई संपर्क नहीं था.

हाल ही में गीता ग्राम पंचायत चुनाव में सरपंच भी चुनी गई थीं.

अर्थी को श्मशान तक पहुंचाया

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

मंगलवार को सुरुजबाई का निधन होने के बाद उनका अंतिम संस्कार उनकी बेटी गीता ने किया था. गीता ने अर्थी को गांव के लोगों के साथ श्मशान तक पहुंचाया और मुखाग्नि भी दी.

गीता का कहना था कि उनकी मां सुरुजबाई ने ही अंतिम संस्कार बेटी के हाथों किए जाने की इच्छा जताई थी और सख़्त हिदायत दी थी कि बेटे को अंतिम संस्कार से दूर रखा जाए.

गुरुवार को जब गीता अपनी बड़ी बहन सीता और गांव की दूसरी महिलाओं के साथ अंतिम संस्कार की एक रस्म के लिए तालाब जा रही थीं, उसी समय भाई तेजराम वर्मा अपने बेटे के साथ पहुंचा और कुल्हाड़ी से ताबड़तोड़ हमला कर गीता को मार डाला.

इस हमले में गीता की बड़ी बहन सीता भी घायल हो गई हैं, जिन्हें स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार