जब औरतों के कपड़ों में निकले मर्द

  • 7 अप्रैल 2015
इमेज कॉपीरइट Bombay Film Factory

मुंबई की सड़कों पर रात के समय 15 आदमी जब औरतों के लिबास में निकले तो कइयों की नींद उड़ गई. ऑटो में सुस्ता रहे ड्राइवर तक उठ बैठे.

नज़ारा अजीब था. कोई साड़ी पहने था, कोई सलवार-सूट तो कोई स्कर्ट. कुछ ने तो कंधे दिखानेवाली ड्रेस पहनी थीं.

ये समलैंगिक या हिजड़ा समुदाय के नहीं थे. पुरुष थे फिर भी औरतों के कपड़े पहने निकले थे.

इनके मुताबिक ये एक संदेश देना चाहते थे कि, औरत हो या मर्द सबको अपने पसंद के कपड़े पहनने की आज़ादी होनी चाहिए.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

'क्यों तफ़री करें'

इस सब पुरुषों को साथ लेकर आया 'वाय लॉएटर' ('क्यों तफ़री करें') नाम का संगठन.

संगठन की शुरुआत करनेवाली नेहा सिंह (अगली तस्वीर में हरी ड्रेस में) के मुताबिक उनका मक़सद है आम सार्वजनिक जगहों पर पुरुषों की ही तरह महिलाओं को घूमने-फिरने की आज़ादी की मांग करना.

महिलाओं के कपड़ों में पुरुषों की ये सैर भी ऐसी आज़ादी का संदेश देने के लिए थी.

नेहा कहती हैं, "कोई कुछ भी पहने उससे उसके जेंडर या व्यक्तित्व पर फ़ैसला नहीं करना चाहिए. ना ही इस वजह से उन्हें हिंसा का निशाना बनाना चाहिए."

इमेज कॉपीरइट Bombay Film Factory

तुर्की से प्रेरणा

नेहा के मुताबिक समाज में आम धारणा है कि कई बार लड़की का पहनावा ऐसा होता है जिसकी वजह से उसका बलात्कार किया जाता है, लेकिन शोध बताते हैं कि ये सरासर ग़लत है.

उनकी ताज़ा पहल की प्रेरणा थी हाल में ही तुर्की में कुछ मर्दों का लड़कियों के कपड़े पहनकर किया गया प्रदर्शन.

ये प्रदर्शन 20 साल की लड़की ओज़गेसान असलान के मामले की ओर ध्यान आकर्षित करने के लिए किया गया था.

तुर्की की रहनेवाली छात्रा असलान ने जब अपने बलात्कारियों को रोकने की कोशिश की थी तब उन्हें मार दिया गया था.

इमेज कॉपीरइट Bombay Film Factory

मिला लड़की होने का अनुभव

मुंबई की सड़कों पर पुरुषों का महिलाओं के लिबास में निकलना अजूबा तो लगना ही था. नीला दुपट्टा और लाल स्कर्ट पहने तरुण महिलानी को भी लोगों ने अजीब तरीके से घूरा.

उन्होंने बताया, "एक पल तो लगा कि उफफ! कितना ख़राब है ये, फिर सोचा कि लड़कियों को भी जब अजनबी ऐसे देखते होंगे तो उन्हें कितना बुरा लगता होगा."

पर तरुण के मन में ये साफ़ था कि वो इस कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे ताकि, "दूसरी ओर की कहानी और अनुभव समझ आएं."

साथ ही उन्हें ये एक महत्वपूर्ण मुद्दे को शांतिप्रिय तरीके से सामने लाने का सही तरीका भी लगा.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

अब दफ़्तर भी ऐसे!

लाल और नीले सलवार कुर्ते में तैयार हुए अजितेश गुप्ता ने कहा कि ऐसा अनोखा मौका वो किसी हाल में नहीं छोड़ते.

वो बोले, "पता नहीं क्यों लड़कों और लड़कियों के कपड़े अलग हैं, मैं तो ऐसे कपड़ों में अब अपने दफ़्तर जाना चाहूंगा."

उनके मुताबिक महिलाओं के लिबास बेहद ख़ूबसूरत और 'ग्रेसफ़ुल' होते हैं और उन्हें सलवार-कुर्ता पहनकर लगा जैसे ये उनके लिए ही बना है.

इमेज कॉपीरइट Bombay Film Factory

लोगों में रुचि

पीली स्कर्ट और नीली टी-शर्ट पहने अर्जुन राधाकृष्णनन ने कहा कि पहले पहल एक शर्म और झिझक का अहसास हुआ, पर सब के साथ निकले तो वो जाती रही.

अर्जुन के मुताबिक, "लोग तस्वीरें खींच रहे थे, जुहू बीच पर खड़े कई परिवार भी हमें देखकर समझने की कोशिश कर रहे थे कि हो क्या रहा है, कई ने तो हमसे आकर बात भी की."

यहां तक कि लड़कों के एक झुंड ने उनसे स्कर्ट मांगकर कपड़े बदले औऱ उनके साथ ही चल निकले.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार