राजन की फटकार का असर, बैंकों ने घटाई दर

इमेज कॉपीरइट AFP

रिज़र्व बैंक के गवर्नर रघुराम राजन की फटकार के बाद भारत के शीर्ष बैंक भारतीय स्टेट बैंक ने क़र्ज़ देने की दर में कटौती की घोषणा की है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ एसबीआई ने ब्याज दर घटाकर 9.85 प्रतिशत कर दी है.

एसबीआई के बाद निजी क्षेत्र के बैंक एचडीएफ़सी ने भी ब्याज दर में कटौती की घोषणा की है.

उम्मीद की जा रही है कि अन्य बैंक भी जल्द ही ब्याज दर में कमी करने की घोषणा कर सकते हैं.

इससे पहले रघुराम राजन ने ब्याज दर कम नहीं करने के लिए बैंकों की आलोचना की थी.

रघुराम राजन ने कहा था, “जब बैंको को ब्याज दर बढ़ाना होता है तो वो पॉलिसी रेट की बात करते हैं. लेकिन जब रिज़र्व बैंक अपना रेट कम करता है तो वो इसे कम क्यों नहीं करते. “

फंड पर बैंक का ख़र्चा

इमेज कॉपीरइट Getty

उन्होंने एक प्रेस कांफ्रेस में कहा था कि ये ‘बकवास’ है कि बैंको के कर्ज़ लेने की दर कम नहीं हुई है.

रिज़र्व बैंक ने हाल के दिनों में बैंकों को जिस दर पर क़र्ज़ मिलता है (रेपो रेट) और अपने फंड का जितना हिस्सा रिज़र्व बैंक में जमा कराना होता है (सीआरआर), को कम किया है.

लेकिन न ही किसी सरकारी और न नही ग़ैर सरकारी बैंकों ने ग्राहकों को दिए जाने वाले ब्याज दर को कम किया था.

राजन ने कहा, बैंक जितनी जल्दी दर कम करेंगे अर्व्यवस्था में उतनी बेहतरी होगी.

मंगलवार को जारी अपनी क़र्ज़ नीति में रिज़र्व बैंक ने रेपो और सीआरआर में किसी तरह का बदलाव नहीं किया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार