सत्ता में कोई हो, शुक्ला सुखी रहते हैं

राजीव शुक्ला (फ़ाइल फोटो) इमेज कॉपीरइट PTI

कांग्रेसी नेता और पूर्व मंत्री राजीव शुक्ला इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के दोबारा चेयरमैन बने तो इसी पद पर रह चुके ललित मोदी ने सबसे पहले ट्वीट करके अपनी प्रतिक्रिया ज़ाहिर की.

मोदी ने ऐसी टिप्पणी की जो राजीव शुक्ला को पसंद नहीं आएगी, `सो द क्लाउन (जोकर) इज़ बैक एज़ चेयरमैन'.

मोदी ने अपनी खुन्नस में शुक्ला को जोकर कहा, लेकिन शुक्ला ताश की गड्डी का ऐसा पत्ता ज़रूर हैं जो तुरुप के पत्ते से भी ज़्यादा कारगर होता है.

शुक्ला ऐसे पत्ते हैं जो हर राजनीतिक दल के दौर में मज़े में रहते हैं, 2013 में मैच फिक्सिंग के मामलों के उजागर होने के बाद आईपीएल के चेयरमैन के पद से इस्तीफ़ा दे चुके शुक्ला फिर उसी सिंहासन पर विराजमान हैं.

किस्मत के धनी

इमेज कॉपीरइट AP

बताया जाता है कि बीसीसीआई अध्यक्ष जगमोहन डालमिया, पूर्व कप्तान सौरव गांगुली को चेयरमैन बनाना चाहते थे तो एन श्रीनिवासन चाहते थे कि पद रणजीत बिस्वाल को मिले. दूसरी ओर चर्चा थी कि शरद पवार का धड़ा अजय शिर्के पर अड़ा था.

माना जाता है कि जब मामला फँस गया और किसी की नहीं चली तो शुक्ला सर्वसम्मति से चुन लिए गए, यही है शुक्ला का जलवा.

ऐसा नहीं कि शुक्ला क्रिकेट के खिलाड़ी, खेल समीक्षक या खेल प्रेमी रहे हों, बल्कि खेलों से उनका कोई ख़ास रिश्ता-नाता नहीं रहा था, पत्रकारिता के बाद उनका मुख्य खेल सियासत की शतरंज रहा है.

ऐसा क्या है जो औरों में नहीं?

इमेज कॉपीरइट PTI

शुक्ला की सबसे बड़ी ख़ासियत है उनका ठंडा दिमाग और शांत स्वभाव. दरअसल, वो राजनीतिक जोड़-घटाव के माहिर हैं. किसी भी स्थिति में आपा ना खोना उनको स्वाभाविक रूप से मिला है.

55 वर्षीय शुक्ला ने अपने करियर की शुरुआत एक पत्रकार के रूप में की. कानपुर में नॉर्दन इंडिया पत्रिका, जागरण, जनसत्ता और रविवार पत्रिका से होते हुए वो राजनीतिक गलियारों में पहुँचे.

इमेज कॉपीरइट AFP

1980 के दशक में बोफ़र्स तोपों की सरगर्मी के बीच विश्वनाथ प्रताप सिंह और पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी पर रविवार में लगातार लेख लिखने से उन्हें कांग्रेस से जुड़ने का मौका मिला और वही उनके जीवन का 'टर्निंग प्वाइंट' माना जाता है.

उसके बाद राज्यसभा में सीट और मनमोहन सिंह की कैबिनेट में संसदीय कार्य मंत्री बनने की राह में कोई ख़ास रुकावट नहीं आई.

ख़ास राजनीतिक हस्ती

इमेज कॉपीरइट IPL

भाजपा नेता रविशंकर प्रसाद की बहन अनुराधा प्रसाद उनकी पत्नी हैं, जो टीवी चैनल न्यूज़24 चलाती हैं.

वे सफल टीवी शो रू-ब-रु एंकर किया करते थे, जिसमें उन्होंने खेल, सिनेमा, संगीत, सामाजिक और राजनीतिक जगत की बड़ी हस्तियों का इंटरव्यू किया जिनमें से कई से उनकी दोस्तियों के क़िस्से सुनने को मिलते हैं.

एक ज़माने में जब नरेंद्र मोदी राजनीतिक दुनिया में एक भाजपा नेता के रूप में उभर रहे थे तो किसी भी नए नेता की तरह वे भी टीवी पर दिखना चाहते थे, तब शुक्ला ही थे जिन्होंने मोदी को इंटरव्यू किया.

इमेज कॉपीरइट Sportzpics cc

इसी तरह, मुकेश अंबानी से भी शुक्ला टीवी शो के ज़रिए ही मिले और उनके संबंध आज भी कायम हैं. यही सब कुछ है जो शुक्ला को एक साधारण राजनेता से खास राजनैतिक हस्ती बनाता है.

मीडिया से भी शुक्ला का हमेशा अच्छा रिश्ता रहा है. ख़ास तौर से टीवी से. जिस रिपोर्टर को कहीं भी किसी भी मुद्दे पर जल्दी बाइट लेनी हो तो सबसे पहली पसंद शुक्ला ही होते हैं.

आईपीएल के आठवें संस्करण का बारिश के साथ आगाज़ हुआ है. देखना है कि शुक्ला की अगुआई में अंजाम क्या होगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार