'पाकिस्तान' में हैं भारत के 5 मोस्ट वांटेड

  • 11 अप्रैल 2015
लखवी इमेज कॉपीरइट AP

लाहौर हाईकोर्ट के ज़की-उर-रहमान लखवी को रिहा करने के फ़ैसले पर भारत में निराशा है. भारत लखवी को 2008 के मुंबई हमलों का मास्टरमाइंड मानता है.

लेकिन लखवी ही नहीं भारत के कई वांटेड पाकिस्तान में स्वतंत्र घूम रहे हैं.

भारत ने मई 2011 में पाकिस्तान को ऐसे 50 लोगों की सूची भी सौंपी थीं. इनमें से पांच मोस्ट वांटेड पर एक नज़र.

1. हाफ़िज़ सईद

इमेज कॉपीरइट Reuters

लश्कर-ए-तैयबा के संस्थापक और जमात-उद-दावा के प्रमुख हाफ़िज़ सईद को भारत 26/11 के मुंबई हमले का मास्टरमाइंड मानता है.

सईद पर अमरीका ने भी 10 लाख डॉलर का इनाम घोषित कर रखा है.

लेकिन पाकिस्तान हाफ़िज़ सईद पर लगे आरोपों को नकारता रहा है. पाकिस्तान का कहना है कि उन पर कोई मामला दर्ज नहीं है और वह पाकिस्तान में घूमने के लिए आज़ाद हैं.

2. दाऊद इब्राहिम

अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम भारत के सबसे वांछित अपराधियों में से हैं. 1993 के मुंबई बम धमाकों के मामले में दाऊद इब्राहिम और उनके भाई अनीस इब्राहिम साज़िशकर्ता माने जाते हैं.

इन बम धमाकों में 257 लोगों की मौत हो गई थी और 700 से ज़्यादा घायल हुए थे.

भारत सरकार बार-बार कहती रही है कि दाऊद ने पाकिस्तान में शरण ले रखी है लेकिन पाकिस्तान इससे इनकार करता है.

3. मौलाना मसूद अज़हर

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption मौलाना मसूद अज़हर

जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख मौलाना मसूद अज़हर पर 2001 में संसद पर हमले की साज़िश रचने का आरोप है.

यह वही मसूद अज़हर हैं जिन्हें 1999 में कंधार विमान अपहरण के दौरान भारत ने यात्रियों के बदले रिहा किया था.

4. सैयद सलाहुद्दीन

सैयद सलाहुद्दीन हिज़्बुल मुजाहिदीन के प्रमुख हैं. माना जाता है कि वह पाकिस्तान में रहकर कश्मीर में अभियान चला रहे हैं.

सलाहुद्दीन भारत विरोधी बयानों के साथ ही जिहादी समूहों को कश्मीर में आकर कारर्वाई करने के लिए आमंत्रित करने के लिए चर्चा में आते रहे हैं.

5. अमानुल्लाह ख़ान

जम्मू कश्मीर लिबरेशन फ्रंट के सह संस्थापक अमानुल्लाह ख़ान कश्मीर में आज़ादी के समर्थक हैं.

ख़ान का जेकेएलएफ़ कश्मीर पर भारत ही नहीं पाकिस्तान के क़ब्ज़े का भी विरोध करता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार