राहुल गांधी के मोदी पर 7 तीर

इमेज कॉपीरइट Reuters

रैली के बाद काँग्रेस उपाघ्यक्ष राहुल गाँधी ने संसद में सरकार को 'सूट बूट की सरकार बताया' है. राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को किसानों से जाकर उनका हाल पूछने और उद्योगपतियों से किए वादे तोड़ने का सुझाव भी दिया.

पढ़ें: जनता के नकारे सलाह ना देंः सरकार

संसद में राहुल के भाषण की 7 मुख्य बातें.

1. आपकी सरकार बड़े लोगों की सरकार है, सूट बूट की सरकार है. हम ये समझते हैं. एक बात साफ़ है कि आपकी जो सरकार है वो किसानों की मुश्किलों को नज़रअंदाज़ कर रही है. आप भी जानते हैं, हम भी जानते हैं ये कार्पोरेट की सरकार है. प्रधानमंत्री कार्पोरेट से किए वादे तोड़े, किसानों से किए वादें निभाएं.

2. 67 प्रतिशत जनता कृषि पर निर्भर है, देश के जो प्रधानमंत्री हैं जो राजनीतिक गणित अच्छी तरह समझते हैं, तो फिर इन 67 प्रतिशत लोगों को क्यों नाराज़ करते हैं? मेरे लिहाज़ से इसका जवाब ये है कि हिंदुस्तान के किसान की ज़मीन की क़ीमत तेज़ी से बढ़ रही है, आपके कार्पोरेट दोस्त उस ज़मीन को चाहते हैं. एक ओर आप किसान को कमज़ोर कर रहे हो. जब किसान कमज़ोर हो जाएगा तब आप उसपर अपने आर्डिनेंस की कुल्हाड़ी मारोगे.

3. मैं नितिन गडकरी जी का आभार व्यक्त करना चाहूंगा क्योंकि वे सच बोलते हैं और दिल से बोलते हैं. उन्होंने कहा कि किसान को ना भगवान पर और ना ही सरकार पर भरोसा करना चाहिए. अच्छी बात है कि उन्होंने अपने मन की बात कही.

इमेज कॉपीरइट zameenwapsi.com
Image caption कांग्रेस ने रविवार को दिल्ली किसान-मज़दूर अधिकार रैली की थी.

4. एमएसपी जहाँ थी वहीं है और किसान पर मौसम की मार भी पड़ी है. ओले-बारिश में किसान का नुक़सान हुआ.

5. बीजेपी का तरीक़ा यही है, यहाँ कुछ बोलो, वहाँ कुछ बोलो और फिर कहो कि तीनों एक ही बात कर रहे हैं.

6. मैं प्रधानमंत्री को सुझाव देता हूँ कि क्यों नहीं पीएम जाकर अपनी आँखों से देख ले, जहाँ लोगों के दिल में दर्द हैं वहां जाकर उनसे बात कर लें.

7. किसान उर्वरक लेने जा रहा है वहाँ उसे लाठियां मिल रही हैं.

(बीबीसी हिंदी का एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक पर और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)