रैली में किसान की आत्महत्या पर सियासत

इमेज कॉपीरइट india samvad

आम आदमी पार्टी दिल्ली में अपनी रैली के दौरान एक किसान की आत्महत्या की वजह पुलिस की तरफ़ से कदम न उठाए जाने को बता रही है, तो कांग्रेस और बीजेपी ने 'आप' को आड़े हाथ लिया है.

बुधवार को दिल्ली के जंतर मंतर पर आप की किसान रैली में राजस्थान का एक किसान पेड़ से लटक गया जिसकी बाद में अस्पताल में मौत हो गई.

पार्टी नेता सोमनाथ भारती ने कहा, "मुझे बताया गया कि पुलिस वहीं थी और पुलिस ने कोई क़दम उठाने से मना कर दिया."

उन्होंने कहा, "वे लोग क्यों फायर ब्रिगेड का इंतज़ार करते रहे. एक जिंदगी को बचाने के लिए फायर ब्रिगेड की ज़रूरत नहीं, वहां एक जान जा रही थी."

पुलिस का कहना है कि वो उन हालात की जांच कर रही है जिनमें ये घटना घटी.

'राजनीति न करें'

वहीं कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने कहा, "इतने सारे लोगों की मौजूदगी में एक आदमी अपनी जान देता हैं और कोई उसे रोकने की कोशिश नहीं करता. ये घटना उन लोगों के बारे में काफ़ी कुछ बताती है जो किसानों के नाम पर रैली कर रहे हैं."

इमेज कॉपीरइट pti

भारतीय जनता पार्टी ने कहा है कि किसानों के नाम पर राजनीति न की जाए.

पार्टी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि 'इस व्यक्ति को मृत अस्पताल लाया गया था, लेकिन केजरीवाल एक व्यक्ति की मौत होने के बावजूद रैली में भाषण देते रहे.'

वहीं आम आदमी पार्टी के नेता आशुतोष ने भूमि अधिग्रहण बिल का ज़िक्र करते हुए भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधा है.

उन्होंने कहा, "दिल्ली आकर राजस्थान के एक किसान का आत्महत्या करना बताता है कि भूमि अधिग्रहण कितना ख़तरनाक है, फसलें बर्बाद होने से किसान की कितनी बुरी स्थिति है और सरकारें किसानों को लेकर कितनी असंवेदनशील हैं."

बुधवार को भूमि अधिग्रहण बिल के ख़िलाफ़ 'आप' की रैली में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया भी मौजूद थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)