दिल्ली किसान आत्महत्या: आज की 7 बड़ी घटनाएँ

गजेंद्र सिंह (फ़ाइल फोटो) इमेज कॉपीरइट PTI

जंतर-मंतर पर आम आदमी पार्टी की रैली के दौरान किसान गजेंद्र सिंह की आत्महत्या करने का मामला गुरुवार को संसद में गूंजा. इस बीच इस मामले की जांच को लेकर दिल्ली पुलिस और आम आदमी सरकार के अधीन दिल्ली प्रशासन के बीच जांच के अधिकार के मुद्दे पर ठन गई है.

पढ़ें, इस मामले से जुड़े आज के 7 ताज़ा घटनाक्रम.

1-अंतिम संस्कार

गजेंद्र के पैतृक गांव राजस्थान के दौसा के गांव नांगल झामरवाड़ा में उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया. गजेंद्र के सबसे बड़े 11 वर्षीय पुत्र ने उन्हें मुखाग्नि दी.

2- क्राइम ब्रांच को जांच

इमेज कॉपीरइट EPA

दिल्ली पुलिस ने इस मामले में आईपीसी (भारतीय दंड संहिता) की धाराओं 306, 186 और 34 के तहत संसद मार्ग थाने में मामला दर्ज किया है. इस मामले की जांच क्राइम ब्रांच को सौंपी गई है.

3-जांच में टकराव

जांच को लेकर दिल्ली पुलिस और प्रशासन आमने-सामने हो गए हैं. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस घटना की मजिस्ट्रेट से जांच के आदेश दिए थे.

इमेज कॉपीरइट AP

दिल्ली पुलिस ने नई दिल्ली के ज़िला मजिस्ट्रेट को पत्र लिखकर कहा है कि यह मामला संसद मार्ग थाने में रजिस्टर्ड है, लिहाज़ा यह आपके जांच के दायरे में नहीं आता.

4-पार्टियों का प्रदर्शन

युवा कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास के बाहर प्रदर्शन किया. उधर भाजपा कार्यकर्ताओं ने रैली आयोजकों के ख़िलाफ़ कार्रवाई की मांग करते हुए दिल्ली पुलिस के मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन किया.

5- 'भीड़ ने उकसाया'

इमेज कॉपीरइट PTI

लोकसभा में गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि दिल्ली पुलिस इस मामले की जांच कर रही है. उन्होंने कहा कि आप की रैली के लिए इकट्ठा भीड़ तालियां बजा रही थी और नारे लगा रही थी. आम आदमी पार्टी के नेता कुमार विश्वास ने आरोप, "गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने संसद में झूठ बोला."

6- संसद में बोले पीएम

इमेज कॉपीरइट Reuters

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संसद में बयान देते हुए कहा, “मानव जीवन से बढ़कर कुछ भी नहीं.” उन्होंने कहा कि किसानों को असहाय नहीं छोड़ा जा सकता है.

7- सुइसाइड नोट पर सवाल

गजेंद्र सिंह के परिजनों ने कथित ‘सुइसाइड नोट’ पर सवाल उठाए हैं. जयपुर स्थित उनके कई रिश्तेदारों का कहना है कि कथित सुसाइड नोट उनकी हैंडराइटिंग में नहीं है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार