मंत्री बोले कुछ, समिति अध्यक्ष कुछ और

  • 24 अप्रैल 2015
cigarette

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने शुक्रवार को कहा कि तंबाकू की खपत को कम किया जाना चाहिए, क्योंकि इसका कैंसर से सीधा संबंध है.

केंद्रीय मंत्री की ये बात एक संसदीय समिति के दावे के बिल्कुल विरूद्ध है जो कह रही है कि तंबाकू सेवन और कैंसर का तालुक्क़ पुरी तरह से प्रमाणित नहीं है.

समिति के अध्यक्ष ही बीजेपी के ही हैं और उनका कहना था कि इस मामले पर जो शोध हुए हैं वो विदेशों में हुए हैं इसलिए इसपर पहले भारत में रिसर्च किया जाना चाहिए.

नड्डा ने लोकसभा को बताया कि उनका मंत्रालय तंबाकू उत्पादों पर चेतावनी की तस्वीर के आकार के संबंध में समिति की सिफ़ारिशों का इंतज़ार कर रहा है.

उन्होंने कहा कि समिति की सिफारिशें मिलने के बाद इस संबंध में अंतिम फ़ैसला लिया जाएगा.

विदेशी सिगरेट पर भी चेतावनी

नड्डा ने कहा कि विदेशों से आयात होने वाले सिगरेट के पैकेट्स पर भी चेतावनी वाली तस्वीर को आवश्यक किया जाएगा. उन्होंने कहा, "इनमें भी ठीक ऐसी ही चेतावनी होगी."

इमेज कॉपीरइट AFP

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि समिति ने अपनी अंतरिम रिपोर्ट दे दी है और अब मंत्रालय अंतिम रिपोर्ट का इंतज़ार कर रहा है.

नड्डा ने कहा, "हम इस बारे में स्पष्ट हैं और इस पर आगे बढ़ेंगे."

नड्डा ने ये भी कहा कि उनका मंत्रालय धूम्रपान के ख़िलाफ़ जागरूकता अभियान चला रहा है और स्कूली बच्चों को इस संबंध में जागरूक किया जा रहा है.

इससे पहले, संसदीय समिति के प्रमुख और बीजेपी सांसद दिलीप गांधी ने कहा था कि तंबाकू के सेवन से कैंसर होता है, भारत में इसके कोई पुख्ता प्रमाण नहीं हैं. समिति के दो अन्य सदस्यों ने भी उनके इस बयान का समर्थन किया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार