65 मौतों पर भारी दिल्ली की एक ख़ुदकुशी!

गजेंद्र खुदकुशी इमेज कॉपीरइट PTI

राजधानी दिल्ली में एक किसान की ख़ुदकुशी सुर्खियां बन गईं, लेकिन बिहार के सीमांचल और कोसी इलाके में 50 से अधिक लोगों की मौत भी मीडिया का ध्यान नहीं खींच सकी.

हालांकि ऑल इंडिया रेडियो के मुताबिक़, 65 मृतकों के अलावा 2000 लोगों के घायल होने की ख़बर है.

पटना के अलग-अलग तबक़े के लोगों की बातों से लगता है कि उन्हें इस बात का मलाल है कि बिहार की आपदा पर मीडिया कवरेज नाममात्र ही रही.

'वैल्यू नहीं'

इमेज कॉपीरइट Nandu

मज़दूरी करने वाले मसौढ़ी के धर्मेंद्र कुमार कहते हैं, "बाहर के लोग बिहार को हाइलाइट करने से घबराते हैं. अगर दिल्ली के लोग यहाँ ध्यान देंगे तो यहाँ की स्थिति ठीक हो सकती है. बिहार के लोग पंजाब और हरियाणा जाना बंद कर देंगे."

उनकी शिकायत है, "मीडिया वाले भी बिहार को वैल्यू नहीं देना चाहते."

बारहवीं की छात्रा श्रुति वर्मा कहती हैं, "बिहार की ख़बरों को, दूसरे राज्यों की अपेक्षा अधिक तवज्जो नहीं दी जाती."

वो कहती हैं, "इसके लिए राज्य सरकार ज़िम्मेवार है क्योंकि स्थानीय समस्याओं की ओर उसका ध्यान नहीं है और वो जागरूक भी नहीं है."

उनका कहना है कि शायद इसीलिए मीडिया का ध्यान भी उस ओर नहीं जा पाता.

मीडिया और बिहार

इमेज कॉपीरइट KAMAL

अमूमन हर साल भीषण तबाही झेलने वाले बिहार के सीमांचल और कोसी का इलाका हर बार तबाह होता रहता है.

साल 2008 में कुसहा महाप्रलय, 2009 और 2011 का तूफ़ान और 2014 के बाढ़ ने हज़ारों जानें लीं.

इस बार भी तूफ़ान के कारण जान माल का भारी नुकसान हुआ है.

लेकिन मीडिया ने भयावह स्थिति को रिपोर्ट करने में काफ़ी कंजूसी दिखाई. राहत तो दूर की बात है.

हालांकि वरिष्ठ पत्रकार संकर्षण ठाकुर कहते हैं कि, "हमेशा से ही स्थान और समय के हिसाब से मीडिया का कवरेज करता है."

उनके मुताबिक़, "इराक़ के मुक़ाबले लंदन में हुई मौत की ख़बर बड़ी होती है. यह सही नहीं है लेकिन यही यथार्थ भी है. सूचना का क्रम ऐसे ही चलता है. इसे लेकर कितनी ही बात कर ली जाए, खबरों की वरीयताक्रम तो तय होता ही रहेगा."

दिल्ली केंद्रित?

इमेज कॉपीरइट AFP GETTY

जबकि भारतीय जनता पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय महासचिव और सामाजिक विचारक केएन गोविंदाचार्य कहते हैं कि सारा सिस्टम ही दिल्ली केंद्रित है. इसमें देश के अलग-अलग जगहों की भावना अभिव्यक्त नहीं हो पाती.

गोविंदाचार्य के अनुसार, "इसमें एक कुलीन वर्गीय नज़रिया है. और दिल्ली को भौगोलिक राजनीतिक वरीयता भी हासिल है."

लेकिन क्या सरकार भी इसी नज़रिए से काम करती है?

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रभावितों की हर संभव मदद का आश्वासन दिया है.

कोसी क्षेत्र की इस आपदा के बाद गृह मंत्री राजनाथ सिंह समेत केंद्रीय मंत्री राधा मोहन सिंह, रविशंकर प्रसाद और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शुक्रवार को विशेष विमान से आपदा प्रभावित इलाक़े का दौरा करने पूर्णिया पहुंचे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार