'आप' के क़ानून मंत्री की डिग्री पर सवाल

आम आदमी पार्टी के समर्थक इमेज कॉपीरइट EPA

दिल्ली के क़ानून मंत्री जितेंद्र सिंह तोमर की लॉ डिग्री विवादों के घेरे में आ गई है और उनके त्यागपत्र की मांग उठ रही है.

ख़़बरों के मुताबिक़ बिहार के भागलपुर स्थित तिलका मांझी विश्वविद्यालय ने सोमवार को दिल्ली हाईकोर्ट में हलफ़नामा देकर कहा कि जितेंद्र सिंह तोमर ने जो प्रमाणपत्र पेश किया है 'वो जाली है और विश्वविद्यालय के रिकॉर्ड से मेल नहीं खाता.'

तोमर ने दिल्ली में कहा, "मेरी लॉ डिग्री 100 प्रतिशत असली है. मैं इस्तीफ़ा नहीं देने जा रहा."

अदालत ने एक याचिका पर सुनवाई करते हुए विश्वविद्यालय को पूरे मामले की जानकारी देने को कहा था.

कोर्ट में कुछ दिनों पहले याचिका दायर हुई थी कि तोमर ने 'जाली डिग्री' के आधार पर बार काउंसिल में पंजीकरण कराया है.

विरोध प्रदर्शन

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption कांग्रेसी नेता अजय माकन ने तोमर के इस्तीफ़े की माँग की है.

कांग्रेस नेता अजय माकन ने ट्वीट करके कहा, "आम आदमी पार्टी नेता और दिल्ली के क़ानून मंत्री की डिग्री जाली पाई गई है. उन्हें तत्काल पद से हटाया जाना चाहिए. उनकी विधानसभा सदस्यता छीन ली जाना चाहिए ताकि उसके लिए ताज़ा चुनाव हो सकें."

माकन ने 30 अप्रैल को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के दफ़्तर के सामने विरोध प्रदर्शन करने की बात कही है.

उन्होंने कहा, "क्या केजरीवाल फिर माफी माँगेंगे या इसकी नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफ़ा देंगे?"

आम आदमी पार्टी के नेता दिलीप पांडे ने मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए मीडिया से कहा, "ये मामला अदालत में है, वही इसका फ़ैसला करेगी....तोमर को अदालत में अपना पक्ष रखने का हक़ है. हमें अदालती कार्रवाई में हस्तक्षेप करने का कोई अधिकार नहीं."

लेखी का सवाल

इमेज कॉपीरइट Delhi Goverment
Image caption जितेंद्र सिंह तोमर दिल्ली के क़ानून मंत्री हैं.

वहीं भाजपा नेता मीनाक्षी लेखी ने सवाल उठाया है कि ऐसे व्यक्ति को क़ानून मंत्री कैसे बना दिया गया?

लेखी ने कहा, "तोमर अभी तक पद पर कैसे बने हुए हैं?"

क़ानून मंत्रालय के अलावा तोमर के पास पर्यटन और कला एवं संस्कृति मंत्रालयों का भी प्रभार है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार