सोहराबुद्दीन मामले में चुडासमा 'क्लीन'

अभय चुडासमा इमेज कॉपीरइट PTI

मुंबई की विशेष सीबीआई अदालत ने बुधवार को गुजरात के विवादित आईपीएस अधिकारी अभय चुडासमा के ख़िलाफ़ लगे सभी आरोपों को ख़ारिज कर दिया है.

कुछ महीने पहले ही भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को भी इस मामले में आरोपमुक्त कर दिया गया था.

चुडासमा अमित शाह के बेहद करीबी माने जाते थे और नरेंद्र मोदी की गुजरात सरकार में अपने कार्यकाल के दौरान विवादों में घिरे रहे.

सीबीआई ने इन्हें सोहराबुद्दीन मुठभेड़ मामले में गिरफ्तार किया और इन पर कई संगीन आरोप लगाए थे.

इमेज कॉपीरइट PTI

सीबीआई ने अपनी चार्जशीट में कहा था की शाह ने सोहराबुद्दीन का फ़र्ज़ी एनकाउंटर करने के लिए डीजी वंजारा और चुडासमा को आदेश दिया था.

2005 में सोहराबुद्दीन अपनी पत्नी के साथ बस में हैदराबाद से सांगली जा रहे थे, आरोप है कि तब गुजरात के आतंकवाद निरोधक दस्ते ने दोनों का पहले अपहरण किया और फिर कथित तौर पर फर्ज़ी मुठभेड़ में उनकी हत्या कर दी.

आरोप

तक़रीबन साल भर बाद दिसंबर में मामले के गवाह तुलसीराम प्रजापति की भी कथित फर्ज़ी मुठभेड़ में हत्या कर दी गई.

इमेज कॉपीरइट SHAILENDRA KUMAR

सीबीआई ने यह भी आरोप लगाए थे कि वह सोहराबुद्दीन के साथ एक जबरन पैसा वसूली का रैकेट चलाते थे.

लेकिन गिरफ़्तार होकर भी किसी न किसी तरकीब से चुडासमा ज़्यादा समय अस्पताल में ही बिताते थे.

पिछले साल अप्रैल में उन्हें कोर्ट से जमानत मिल गई. जमानत के कुछ ही महीने बाद उन्हें गुजरात पुलिस में शामिल कर लिया गया और पुलिस महानिदेशक के विजिलेंस विभाग का मुखिया बना दिया गया.

मुंबई की अदालत ने इसी सप्ताह इस केस से जुड़े बिजनेसमैन अजय पटेल पर भी लगे सभी आरोप ख़ारिज कर दिए थे.

पटेल, शाह के बेहद करीबी दोस्तों में से एक है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार