केले खाकर चोर 'निकालेगा' नेकलेस

  • 29 अप्रैल 2015
अनिल यादव

भारत में चोरी करने वाले एक व्यक्ति को केले और अन्य ख़ास तरह का खाना खिलाया जा रहा है.

इस तरीके से उसके पेट में फंसे नेकलेस को मलद्वार से निकलाने की कोशिश की जा रही है.

मुंबई पुलिस ने सोमवार को अनिल यादव को नेकलेस की चोरी के आरोप में गिरफ्तार किया है.

मुंबई के सायन इलाक़े में अनिल ने नेकलेस छीन कर भागने की कोशिश की थी. नेकलेस की कीमत क़रीब 63,000 रुपए बताई जा रही है.

एक बड़े पेंडेंट के साथ 25 ग्राम का यह नेकलेस अब अनिल के पेट में पहुंच चुका है.

एक्स-रे में दिखा नेकलेस

पुलिस अधिकारी राहुल पवार ने बीबीसी को बताया कि अनिल ने 52 वर्षीय महिला के गले से नेकलेस उस वक्त छीन लिया था जब वह सायन इलाके में अपने घर लौट रही थी.

उन्होंने बताया कि महिला के चिल्लाने पर वहां मौजूद पुलिस और अन्य लोगों ने अनिल को दौड़ाया और उसे पकड़ लिया.

पुलिस की तलाशी में अनिल के पास कोई नेकलेस नहीं मिला. कुछ लोगों ने बताया कि उन्होंने अनिल को नेकलेस निगलते हुए देखा था, जिसके बाद पुलिस उसे सायन अस्पताल ले गई.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

एक्स-रे किए जाने पर अनिल के पेट में नकलेस देखा गया.

राहुल पवार ने बताया कि अब अनिल को ख़ास तरह का खाना और केले खिलाए जा रहे हैं. नेकलेस के मिलने पर उसे उसके मालिक को दे दिया जाएगा.

यह वैज्ञानिक तरीका नहीं

यह पहली बार नहीं है जब चोरी करने वाले किसी व्यक्ति को चोरी के सामान की बरामदगी के लिए केले खिलाए जा रहे हैं. 2007 में पूर्वी भारत में पुलिस ने सोने की एक चेन को निकालने के लिए इसी तरह की कोशिश की थी.

इमेज कॉपीरइट Getty

पिछले साल भी पुलिस ने चोरी का सामान बरामद करने के लिए एक व्यक्ति को 36 केले खिलाए थे.

डॉक्टरों का कहना है कि केले घुट्टी की तरह काम नहीं करते.

दिल्ली में काम कर रहे डॉक्टर देबांग्शू दाम ने बीबीसी को बताया, "केले केवल मल की मात्रा बढ़ा सकते हैं. बहुत केले खाने पर पेट में दर्द होने से व्यक्ति को मल त्यागने की ज़रूरत होती है."

देबांग्शू का कहना है, "यह एक पुराना तरीका है और कतई वैज्ञानिक नहीं."

वे कहते हैं, "किसी गांव-देहात के पुलिस स्टेशन में ऐसा किया जाना मैं समझ सकता हूं पर जहां आसानी से घुट्टी उपलब्ध हो सकती है वहं केले खिलाया जाना मेरी समझ में नहीं आता?"

2007 की घटना में जिस व्यक्ति ने हार निगल लिया था, उसे हार धो कर उसके मालिक को सौंपना पड़ा था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार