'पानी में खड़े- खड़े चमड़ी गलने लगी है'

जल सत्याग्रह इमेज कॉपीरइट PRAKASH

एक तरफ़ देश में किसानों की आत्महत्या को लेकर सड़क से लेकर संसद तक हंगामा मचा हुआ है.

दूसरी तरफ़ पिछले बीस दिनों से नर्मदा के पानी में जल सत्याग्रह कर रहे किसानों की सुध लेने वाला कोई नहीं है.

मध्य प्रदेश में ओंकारेश्वर बांध की ऊंचाई और बढ़ाए जाने से डूब क्षेत्र में आने वाले लोग बीते 11 अप्रैल से पानी में लगातार खड़े रहकर जल सत्याग्रह कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट PRAKASH

प्रभावित क्षेत्र के घोघलगाँव में सत्याग्रह कर रहे ये लोग पुनर्वास और मुआवज़े की मांग कर रहे हैं.

प्रदर्शनकारियों में शामिल सकु बाई (63) कहती हैं, "ओंकारेश्वर बांध को मिली क़ानूनी मंजूरी के अनुसार, बांध पूरा होने के छह माह पहले ही पुनर्वास पूरा हो जाना चाहिए था. यहां बांध तो पूरा हो गया लेकिन, प्रभावितों का पुनर्वास आजतक नहीं हो पाया."

इमेज कॉपीरइट PRAKASH

कोमल और उनकी पत्नी नन्नी बाई जल सत्याग्रह के पहले दिन से ही बांध के पास पानी में खड़े हैं.

नन्नी बाई कहती हैं, "हाथ और पैरों की चमड़ी गलने लगी है, शरीर में खुजली और दर्द है, लेकिन हमें इसकी चिंता नहीं है. हम अपनी ज़मीनों का पर्याप्त मुआवज़ा चाहते हैं."

इमेज कॉपीरइट PRAKASH

खंडवा के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. पनिका जल सत्याग्रहियों के स्वास्थ्य पर नज़र बनाए हुए हैं.

कई दिनों से पानी में लगातार खड़े रहने के कारण लोगों के पैर गलने लगे हैं और कुछ के पैरों से खून भी आना शुरू हो गया है.

इमेज कॉपीरइट PRAKASH

जल सत्याग्रह में भाग ले रहे लोग खाना तक पानी के अंदर ही खा रहे हैं.

नर्मदा बचाओ आंदोलन के मुताबिक़, ओंकारेश्वर बांध की ऊंचाई को 189 से 191 मीटर करने से पांच और गांव डूब क्षेत्र में आ गए हैं.

इमेज कॉपीरइट PRAKASH

प्रदर्शनकारियों के समर्थन में आम आदमी पार्टी की अतिशि मार्लेना भी घोगलगाँव में जमी हुई हैं.

बहुजन समाज पार्टी की खंडवा इकाई ने भी सत्याग्रहियों के समर्थन में प्रदर्शन किया.

इमेज कॉपीरइट PRAKASH

नर्मदा बचाओ आंदोलन का दावा है कि पुनर्वास और प्रभावितों का मामला सुलझाए बगैर इस क्षेत्र को डुबाना सुप्रीम कोर्ट के आदेश का उल्लंघन है.

इमेज कॉपीरइट PRAKASH

सत्तर साल के बनवट सिंह की 6.5 एकड़ ज़मीन डूब जाएगी.

वो कहते हैं, "हम अपने हक़ की लड़ाई लड़ रहे हैं. हमारी मांग है कि सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के अनुरूप प्रभावित परिवारों के पुनर्वास का काम बिना देर किए पूरा होना चाहिए."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार