पीड़ित परिवार को 'न्याय चाहिए, पैसा नहीं'

लड़की की घायल मां इमेज कॉपीरइट Ravinder Singh Robin

पंजाब के मोगा में बस में कथित छेड़छाड़ की घटना के मामले में पंजाब सरकार को शुक्रवार को एक और शर्मिंदगी झेलनी पड़ी.

पीड़िता के परिवार ने सरकार की ओर से दिए जा रहे 20 लाख की आर्थिक सहायता लेने से इनकार कर दिया है.

जिस बस में ये कथित छेड़छाड़ की घटना हुई, वो मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के परिवार की है.

छेड़छाड़ की घटना के बाद बस से गिर कर एक नाबालिग लड़की की मौत हो गई. इस हादसे में बस से कूद कर घायल हुई उसकी मां की हालत गंभीर है.

'नहीं चाहिए पैसा'

परिवार के सदस्यों का कहना है कि उन्हें न्याय चाहिए, पैसा नहीं. परिवारवालों की मांग है कि इस मामले में पुलिस ऑर्बिट बस सर्विस के मालिकों के ख़िलाफ़ केस दर्ज करे.

परिवार ने सरकारी आर्थिक मदद को लेने से इनकार कर दिया है.

इमेज कॉपीरइट Ravinder Singh Robin

सातवीं में पढ़ने वाली 13 साल की लड़की के पिता ने कहा, "हमें पैसा नहीं चाहिए, हमें न्याय चाहिए."

रिश्तेदारों के मुताबिक बस कंडक्टर ने लड़की और उसकी माँ के साथ छेड़छाड़ शुरू कर दी थी, जिससे बचने के लिए दोनों ने बस से छलांग लगा दी.

लड़की की दादी की मांग है कि बस के मालिकों के ख़िलाफ़ प्राथमिकी दर्ज की जाए और उनका लइसेंस रद्द किया जाए.

इमेज कॉपीरइट Ravinder Singh Robin

ऑर्बिट बस सर्विस के मालिक राज्य के उप मुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल हैं.

कथित छेड़छाड़ की घटना और फिर नाबालिग लड़की की मौत के बाद पूरे देश से इसके विरोध में आवाज़ें उठ रही हैं.

लड़की के परिवार ने बस सर्विस के मालिकों के साथ-साथ शामिल दोषियों के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई की मांग की है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार