घर लौटे सलमान, फ़ैन्स का किया शुक्रिया

इमेज कॉपीरइट epa

बॉम्बे हाई कोर्ट ने शुक्रवार को 'हिट एंड रन' मामले में अभिनेता सलमान ख़ान को ज़मानत देते हुए उनकी सज़ा को टाल दिया.

सलमान आज ख़ुद कोर्ट गए थे. शाम को उनके घर के बाहर फ़ैन्स का अच्छा खासा जमावड़ा हो गया था जिसके बाद वो परिवार के साथ बालकनी पर आए और लोगों का शुक्रिया किया.

कोर्ट के फ़ैसले के बाद सलमान ख़ान को अब हिरासत में नहीं लिया जाएगा और वो बाहर रह कर अपना मुकदमा लड़ सकते हैं.

इमेज कॉपीरइट EPA

सरकारी वकील प्रदीप घरात ने बताया कि सलमान को 30 हज़ार रुपए के मुचलके पर ज़मानत दी गई है और उनके विदेश जाने पर फिलहाल कोर्ट ने रोक लगा दी है.

उन्हें अपना पासपोर्ट जमा करना होगा. अदालत के आदेश के बाद ही वो विदेश जा पाएंगे.

सलमान पर आरोप था कि 28 सितंबर 2002 की रात उन्होंने नशे में अपनी गाड़ी फुटपाथ पर सो रहे लोगों पर चढ़ा दी थी, जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई और चार अन्य घायल हो गए थे.

उठा कमाल ख़ान का मुद्दा

बुधवार को सेशन कोर्ट ने सलमान को दोषी क़रार देते हुए पांच साल की सज़ा सुनाई थी, जिसे उनके वकीलों ने हाई कोर्ट में चुनौती दी.

ज़मानत की ख़बर सुनते ही सलमान के घर के बाहर मौजूद उनके प्रशंसकों ने नाचना शुरू कर दिया है.

भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को लाठी चार्ज का सहारा लेना पड़ा, लेकिन सलमान के प्रशंसक जमे हुए हैं और सलमान से बाहर आने के लिए कह रहे हैं.

सुनवाई के दौरान जज अभय थिप्से ने अदालत में पुलिस कांस्टेबल रवींद्र पाटिल के बयान की कॉपी मांगी है, जो मामले के अहम चश्मदीद थे.

इमेज कॉपीरइट AP

जज ने अभियोजन पक्ष से पूछा कि घटना के वक्त मौजूद गायक कमाल ख़ान का बयान पुलिस ने दोबारा क्यों नहीं रिकॉर्ड किया.

सलमान ख़ान के वक़ील अमित देसाई का तर्क था कि 'सलमान ख़ान गाड़ी चला रहे थे, ये बात जज देशपांडे ने कही है, प्रॉसिक्यूशन ने साबित नहीं किया है.'

मुंबई सेशन कोर्ट के जज डीडब्लू देशपांडे ने कहा था कि सलमान ख़ान पर ग़ैर इरादत हत्या का मामला साबित हुआ है.

उन्होंने कहा कि सलमान ही नशे में गाड़ी चला रहे थे और उनके ख़िलाफ़ सभी आरोप सही साबित हुए हैं.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)