माओवादियों ने ग्रामीणों को छोड़ा, एक की हत्या

  • 9 मई 2015
इमेज कॉपीरइट Alok Putul

छत्तीसगढ़ में अधिकारियों का कहना है कि माओवादियों ने अपह्रत मारेंगा पंचायत के सभी ग्रामीणों को रिहा कर दिया है हालांकि माओवादियों ने एक ग्रामीण सदाराम नाग की हत्या कर दी है.

ग्रामीणों के मुताबिक शुक्रवार देर रात बड़ी संख्या में माओवादियों ने उन्हें हथियारों के बल पर गांव से दूर पहाड़ी पर चलने के लिये बाध्य किया था. इसके बाद शनिवार को माओवादियों ने जन अदालत लगाई.

ग्रामीणों के अनुसार माओवादियों का कहना था कि मना करने के बाद भी गांव के कुछ लोग बारु नदी पर बन रहे पुल के निर्माण में सहयोग कर रहे हैं. इसके बाद माओवादियों ने पुल निर्माण में मुंशी के बतौर काम करने वाले सदाराम नाग की हत्या कर दी.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption छत्तीसगढ़ के दौरे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

इससे पहले राज्य के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने शनिवार को पुष्टि की थी कि माओवादियों ने 250 ग्रामीणों का अपहरण कर लिया है. उधर मारेंगा गांव पहुंचे कुंटा इलाके के कांग्रेस विधायक कवासी लखमा ने मरेंगा, टिपनपाल, टहकवाड़ा, जूनापानी और लिटिरास से कम से कम 1,000 ग्रामीणों के अपहरण की बात कही थी.

दिन में आई रिपोर्टों में ये भी कहा गया था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली में भाग लेने आ रहे लोगों को माओवादियों ने रोका था. शनिवार को ही मारेंगा से 70 किलोमीटर दूर दंतेवाड़ा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभा आयोजित की गई थी.

राज्य के गृहमंत्री रामसेवक पैंकरा ने भी कहा था कि माओवादियों ने भाजपा कार्यकर्ताओं का अपहरण किया है.

उधर बस्तर के आईजी एसआरपी कल्लुरी का कहना था कि माओवादियों ने सड़क निर्माण में लगे कुछ मज़दूरों का अपहरण किया था, जिसके बाद माओवादियों से बातचीत करने और मज़दूरों को छोड़ने की मांग करते हुए सैकड़ों ग्रामीण माओवादियों तक पहुंचे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार