न्याय की जीत है अदालत का फ़ैसलाः जया

jaylalita celebrations इमेज कॉपीरइट PTI

कर्नाटक हाईकोर्ट से आय से अधिक संपत्ति के मामले में बरी होने पर तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयराम जयललिता ने कहा, "यह न्याय की जीत है और उनकी हार, जो मेरी और मेरे गुरु एमजीआर की विरासत को बदनाम करने की कोशिश कर रहे थे."

उन्होंने यह भी कहा कि वे इसे तमिलनाडु को लोगों की जीत मानती हैं.

डीएमके पर निशाना साधते हुए जयललिता ने कहा, "चूंकि डीएमके मुझे चुनावों में नहीं हरा पाई, तो मेरा करियर खत्म करने के लिए ऐसे तरीके अपनाए. लेकिन अंत में न्याय की जीत हुई."

फ़ैसले पर खुशी

इमेज कॉपीरइट PTI

फ़ैसले के बाद जयललिता के वकील बी कुमार ने बताया कि पूर्व मुख्यमंत्री के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति का मामला साबित नहीं हुआ है.

उन्होंने कहा, "अब जयललिता के फिर से मुख्यमंत्री बनने में कोई बाधा नहीं है."

फ़ैसला आने के बाद से ही चेन्नई में जयललिता के घर के बाहर उनके समर्थकों ने जश्न मनाना शुरू कर दिया.

बैंगलोर में भी अदालत के बाहर जश्न का माहौल था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार