सेहरा नहीं हेलमेट वाला दूल्हा

हेलमेट वाला दुल्हा

मध्यप्रदेश के रतलाम ज़िले के गांव नेगरुन में एक दूल्हे को घोड़ी पर पगड़ी की जगह हेलमेट पहनना पड़ा.

ये सब दूल्हे को पुलिस की हिदायत के बाद करना पड़ा.

दूल्हा पवन मालवीय दलित समाज से ताल्लुक रखते हैं और ये बात गांव के ऊंची जाति के लोगों को पसंद नहीं आ रही थी कि दलित दूल्हा घोड़ी पर निकले.

इसी वजह से उन्होंने बारात पर पथराव कर दिया.

इसके बाद पुलिस ने जहां पूरी बारात को सुरक्षा उपलब्ध करवाई वहीं दूल्हे को भी हेलमेट पहनाया गया.

इमेज कॉपीरइट bbc

बेरछा गांव के पवन मालवीय की शादी पूरालाल पड़ियार की बेटी आशा से हो रही थी.

इस तरह पहले भी हुआ है कि दलितों को गांव में घोड़ी पर नहीं बैठने दिया गया है इसके चलते पूरालाल पड़ियार ने इसकी लिखित शिकायत पहले ही रतलाम पुलिस अधीक्षक को कर दी थी.

पुलिस की सुरक्षा में ही पूरी शादी को अंजाम दिया गया.

ताल थाने के टीआई सुरेश बलराज ने बताया, “पुलिस ने इस मामले में 72 लोगों के ख़िलाफ़ मामला दर्ज किया है. अभी तक़रीबन 40 लोगों को गिरफ़्तार किया जा चुका है.”

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)