मेरे ज़्यादा काम की भी आलोचना: मोदी

  • 16 मई 2015
इमेज कॉपीरइट Reuters

चीन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का शनिवार को आखिरी दिन था. शंघाई में प्रधानमंत्री ने शीर्ष कंपनियों के अधिकारियों से मुलाकात की.

इस दौरान उन्होंने कहा, ''अब भारत बिज़नेस के लिए तैयार है, आपने बदलाव के पंख देखे होंगे. मैं आपको यकीन दिलाता हूं कि मैं ख़ुद आपकी सफलता का ध्यान रखूंगा.''

साथ ही उन्होंने कहा कि भारत-चीन के संबंधों को और मज़बूत करने का वक्त आ गया है. उन्होंने कहा कि मेरा हर एक पल देश के 125 करोड़ लोगों के लिए है.

'ज़्यादा काम पर भी आलोचना'

इमेज कॉपीरइट Reuters

शंघाई में मोदी ने भारतीय मूल के लोगों को भी संबोधित किया. इस दौरान मोदी ने अपने आलोचकों पर भी चुटकी ली.

उन्होंने कहा, ''अगर कोई कम काम करे और उसकी आलोचना हो तो समझ आता है. लेकिन मेरा तो दुर्भाग्य है कि ज़्यादा काम करने की वजह से मेरी आलोचना होती है.''

मोदी ने कहा, "अगर काम करना गुनाह है तो मैं ये गुनाह बार बार करूँगा."

उन्होंने आगे कहा, ''मैं यहां मौजूद सभी लोगों से आर्शीवाद मांगता हूं. मुझे आर्शीवाद दीजिए कि मैं और भी अच्छा काम कर सकूं.''

'दुख भरे दिन बीते रे भैया'

इमेज कॉपीरइट Reuters

प्रधानमंत्री ने कहा कि जब एक साल पहले चुनाव हुए थे तब हर तरफ एक ही आवाज़ गूंज रही थी, 'दुख भरे दिन बीते रे भैया'.

उन्होंने वहां मौजूद लोगों से पूछा, ''आप तो विदेशों में रहते हैं, जानते ही हैं कि जब कोई भारतीय विदेश जाता है तो उसके साथ कैसा बर्ताव होता था. लेकिन अब स्थिति बदल चुकी है.''

उन्होंने कहा, ''अब हम सीना तान कर देश के बाहर कह सकते हैं कि हम भारत से हैं.''

चीन से मंगोलिया रवाना होते हुए मोदी ने ट्वीट किया- "गुडबाय चाइना ! मेहमाननवाज़ी के लिए मैं आभारी हूँ. मैं इस दौरे को याद रखूँगा."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार