जब एक्सप्रेस वे पर उतरा लड़ाकू विमान

इमेज कॉपीरइट IAF

भारतीय वायु सेना ने एक अभ्यास के दौरान सड़क पर अपना लड़ाकू विमान उतारने का सफल प्रयोग किया है.

भारतीय वायु सेना ने विज्ञप्ति जारी कर कहा कि सेना आपात स्थिति में राष्ट्रीय मार्गों को लड़ाकू विमान उतारने के लिए रनवे के तौर पर इस्तेमाल करने को लेकर विचार कर रही है.

विज्ञप्ति के अनुसार इसी कोशिश के तहत लड़ाकू विमान मिराज 2000 को मथुरा के नज़दीक बने यमुना एक्सप्रेसवे पर सफलतापूर्व उतारा गया.

सहयोग

इमेज कॉपीरइट IAF

वायु सेना का कहना है कि इस अभ्यास से पहले आगरा में वायु सेना स्टेशन से मिलकर सभी प्रक्रियाएं पूरी की गईं और सुरक्षा के इंतजाम सुनिश्चित किए गए.

विज्ञप्ति के अनुसार इस अभ्यास के लिए उत्तरप्रदेश सरकार,यमुना एक्सप्रेसवे ऑथोरिटी और पुलिस से भी पूरा सहयोग मिला.

वायु सेना में इस तरह का प्रयोग भारत में पहली बार किया गया है. इस दौरान एक्सप्रेस को बंद कर दिया गया था.

किसी भी आपात स्थिति में रोड रनवे लैंडिंग के लिए बेहद जरुरी है और युद्ध के दौरान वायुसेना के अड्डे बर्बाद हो जाने की स्थिति में इन्हें इस्तेमाल किया जा सकता है.

फिलहाल जर्मनी, पोलैंड, स्वीडन, दक्षिण कोरिया, ताइवान, फिनलैंड, सिंगापुर और पाकिस्तान उन कुछ देशों में से एक हैं जिन्होंने आपातकाल की स्थिति में एक्सप्रेसवे और हाईवे पर अपने विमान लैंड करने की सुविधा की हुई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)