मोदी का मंदिर बनाने पर अड़ा 'भक्त'

  • 29 मई 2015
नरेंद्र मोदी मंदिर इमेज कॉपीरइट ATUL CHANDRA

उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद निवासी पुष्पराज सिंह यादव ज़िले के जलालपुर क्षेत्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मंदिर बनवा रहे हैं.

हालांकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस तरह की ख़बरों के प्रति नाराज़गी जता चुके हैं. इसके बाद गुजरात के राजकोट में उनके नाम पर बन रहे मंदिर का निर्माण कार्य रोक दिया गया था.

पुष्पराज ने गत 21 मार्च को मंदिर का शिलान्यास किया था. लेकिन भाजपा के विरोध के बाद जिला प्रशासन ने मंदिर का निमार्ण कार्य रुकवा दिया.

मोदी सरकार के एक साल पूरे होने पर पुष्पराज ने एक बार फिर मंदिर निर्माण का काम शुरू कर दिया है.

( पढ़े : शिव मंदिर जहां होती है मोदी मूर्ति की आरती)

उनका कहना है कि मंदिर अक्टूबर में बनकर तैयार हो जाएगा और नवरात्रि के पहले दिन श्रीकृष्ण और नरेंद्र मोदी की मूर्तियां मंदिर में स्थापित की जाएंगी.

श्रीकृष्ण और मोदी साथ साथ

इमेज कॉपीरइट AFP

इस मंदिर के निर्माण पर क़रीब एक करोड़ रुपए खर्च होने का अनुमान है. पुष्पराज ने मंदिर के लिए अपनी ज़मीन दी है. स्थानीय व्यापारियों और किसानों ने उन्हें करीब 10 लाख रुपए का चंदा दिया है. वहीं कुछ लोग सरिया, सीमेंट, बालू और ईंट देकर मंदिर के निर्माण में मदद कर रहे हैं.

पुष्पराज ने बीबीसी को बताया, "मंदिर का कोई नक्शा नहीं बनवाया गया है. इसमें ढाई-ढाई फुट की संगमरमर की मूर्तियां स्थापित की जाएँगी."

उन्होंने बताया कि ये मूर्तियां फाफामऊ में बन रही हैं. एक मूर्ति की कीमत 25 हज़ार रुपए है.

इमेज कॉपीरइट Prabhat Kumar Verma
Image caption कौशांबी ज़िले के एक गांव के मंदिर में नरेंद्र मोदी के एक प्रसंशक ने उनकी प्रतिमा लगाई है.

पुष्पराज सिंह पहले समाजवादी पार्टी के यूथ ब्रिगेड में थे, अब वो भाजपा में हैं. नरेंद्र मोदी के अच्छे कामों की वजह से वो उन्हें भगवान की तरह मानते हैं.

सपा से पहले वो उत्तर प्रदेश के शराब व्यवसायी डीपी यादव की पार्टी परिवर्तन दल के टिकट पर 2002 और 2007 का विधानसभा चुनाव भी लड़ चुके हैं, जिनमें उन्हें हार का सामना करना पड़ा.

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता विजय बहादुर पाठक ने कहा,''हम उन्हें समझाने की कोशिश करेंगे कि जिस काम को मोदी जी पसंद नहीं करते हैं उसे वो न करें.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार