सोशल मीडिया पर है 'सूटकेस की पार्टी'

  • 31 मई 2015
प्रधानमंत्री मोदी इमेज कॉपीरइट Reuters

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को कहा कि “सूटबूट की सरकार सूटकेस की सरकार से बेहतर है” और लोगों ने सोशल मीडिया पर सूटकेस की सरकार पर बात करना शुरू कर दिया.

रविवार को ट्विटर पर #सूटकेसकीपार्टी ट्रेंड कर रहा है.

मोदी कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के भारतीय जनता पार्टी के “सूट-बूट की सरकार” होने के आरोप का जवाब दे रहे थे.

इससे पहले राहुल गांधी ने कहा था, “आरएसएस अपनी विचारधारा देश पर थोप रहा है.”

इमेज कॉपीरइट AFP

इस पर ट्वीट पर लोग अपनी राय दे रहे हैं और कांग्रेस पर आरोप लगा रहे हैं.

पढ़िए कुछ ट्वीट

रमेश अग्रवाल ने ट्वीट किया है, “देश भले ही प्रगति कम कर रहा हो पर देश के कुछ लोग ज़रूर प्रगति कर रहे हैं.”

यश माहेश्वरी ने कहा, “कांग्रेस कहती है अच्छे दिन नहीं आए सवाल ये है की देश के बुरे दिन लाने वाली सरकार किसकी थी.”

चोरी के ट्वीट नाम के ट्विटर हैंडल ने कहा, “60 के शासन के बाद 1 साल मे 'अच्छे दिन' के सपने वही लोग देखते है जो 'फेयर एंड हॅन्डसम' लगाकर तुरंत गोरा होने के सपने देखते हैं.”

उत्तराखंड बाढ़ और भूस्खलन में राहत कार्य करने के लिए गए अफ़सरोें की 'दावत उड़ाने' की ख़बर पर राय देते हुए ओइंद्राली मुखर्जी लिख रही हैं, “पेश है कांग्रेस की तरफ से एक और घोटाला उत्तरखंड त्रासदी घोटाला जहां हिंदू मर रहे थे वहां राहुल जी की पार्टी घोटाला कर रही थी”.

इसी पर गुस्साए पारस बिश्ट कह रहे हैं, “सूटकेस की पार्टी पिछले 60 सालों से गरीबी समाप्त करने की बात तो करती है लेकिन गरीबी का अंत नही कर सकी लेकिन इनके नेता अमीर होते गऐ.”

अमीय करम्बे कहते हैं, “सूटकेस की पार्टी ने देश में विकास को धीमा कर दिया था. प्रधानमंत्री मोदी को 100 प्रतिशत सूट-बूट में होना चाहिए.”

राजन शर्मा का कहना है, “सूट-बूट की सरकार बोलने वालों ‘60 साल के झूठ-लूट की सरकार’ Trend होगा, एक-एक कपड़ा उतर जाएगा, बोल्ड हो जाएंगे विपक्षी.”

उमाकांत सिंह प्रधानमंत्री से पूछते हैं, “साल भर बाद भी प्रधानमंत्रीजी क्या राष्ट्र से अपनी#MannKiBaat करते रहेंगे या#महापरिवर्तनकीबात भी करेंगे अब?”

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार