बुज़ुर्ग 'भाई-बहन' का जबरन करवाया निकाह

बिजनौर के निवासी जमीला और यूसुफ इमेज कॉपीरइट Atul Chandra

बुढ़ापे में अकेलेपन को दूर करने के लिए एक दोस्त बनाना दो बुज़ुर्गों के लिए ज़िल्लत की वजह बन गया.

मामला उत्तर प्रदेश में बिजनौर ज़िले के पखनपुर गांव का है जहां एक 65 साल की महिला जमीला का 75 साल के बुज़ुर्ग यूसुफ़ से ज़बरदस्ती निकाह करा दिया गया है.

गांव वालों ने उनके संबंधों को अवैध बताते हुए उनका ये निकाह कराया है.

लेकिन यूसुफ़़ जमीला को बहन बताते हुए इस निकाह को मानने को तैयार नहीं हैं.

बेटी की मौत

यही नहीं, निकाह के बाद दोनों को मारपीट कर गांव से निकाल दिया और उन्होंने कब्रिस्तान में शरण ली.

हालांकि पुलिस का कहना है कि यूसुफ़ और जमीला अब अपने घरों में हैं और मामले की जांच हो रही है.

गत शुक्रवार देर रात जमीला की 18 साल की लड़की की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी.

उसे दफ़नाने के बाद शनिवार को पंचायत बुलाई गई.

पंचायत ने आरोप लगाया गया कि जमीला का उसके घर आने वाले बुजुर्ग यूसुफ़ से अवैध संबंध हैं.

गांववालों ने आरोप लगाया कि लड़की ने अपनी मां को बुजुर्ग के साथ आपत्तिजनक हालत में देख लिया, जिसके बाद दोनों ने उसे ज़हर देकर मार डाला.

लेकिन यूसुफ़ कहते हैं कि जमीला की लड़की को हैज़ा-जैसी बीमारी थी जिसका इलाज चल रहा था.

'अल्लाह करेगा इंसाफ़'

यूसुफ़ ने जमीला से अपने निकाह को ग़लत ठहराया है. उन्होंने बीबीसी को बताया, "वो बेचारी तो हमारी बहन है और अभी थोड़ी देर पहले हमारे पास ही बैठी थी."

उनको यकीन है कि "अल्लाह इंसाफ़ करेगा."

पुलिस इंस्पेक्टर सुरेन्द्र कुमार ने कहा कि यूसुफ़ और जमीला अब अपने-अपने घरों में हैं और मामले की जांच की जा रही है.

बेटी की मौत के बाद जमीला के चार बच्चे हैं और उन्हें अपनी मां से कोई शिकायत नहीं. वहीं यूसुफ़ के बच्चों को भी अपने पिता से कोई शिकवा नहीं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार