बैंक घटी ब्याज दर का लाभ आगे दें: आरबीआई

इमेज कॉपीरइट AFP

भारत के रिज़र्व बैंक ने मौद्रिक नीति में रेपो रेट को 25 बेसिस प्वाइंट घटाया है. इस कटौती के बाद ये रेट 7.50 प्रतिशत से घटकर 7.25 प्रतिशत हो गया है.

रेपो रेट वो दर है जिसपर आरबीआई वाणिज्य बैंकों को कम अवधि के लिए उधारी देता है.

बैंक जब आरबीआई में अपना पैसा जमा करते हैं और आरबीआई उन्हें जिस दर से ब्याज देता है वह रिवर्स रेपो रेट कहलाता है.

आरबीआई के गवर्नर रघुराम राजन ने कहा, "बैंकों को इस रेट कट को आगे उपभोक्ता तक पहुँचाना चाहिए....बैंकों को चाहिए कि वे अपनी बैलेंस शीट साफ़ करें और इस बारे में कार्रवाई न करना सबसे बड़ी समस्या बन जाता है."

इसका मतलब ये हुआ कि राजन चाहते हैं कि बैंक ऐसे कदम उठाएँ जिनसे ब्याज दरें घटें और लोग राहत महसूस करें.

दूसरी ओर, सीआरआर यानी कैश रिज़र्व रेशो को चार प्रतिशत पर ही रखा गया है.

आरबीआई के मुताबिक भारत की जीडीपी 7.6 से 7.8 प्रतिशत तक रहने की संभावना है क्योंकि मॉनसून के बारे में अनिश्चितता बनी हुई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)