चलती कार में भ्रूण लिंग परीक्षण किया

  • 4 जून 2015
भ्रूण लिंग परीक्षण इमेज कॉपीरइट SPL

राजस्थान में एक महिला डॉक्टर को चलती कार में भ्रूण लिंग परीक्षण करते हुए गिरफ़्तार किया गया है.

अधिकारियो के अनुसार डॉक्टर संतोष पारीक को गिरफ़्तार कर लिया गया है जबकि अभी दो ओर लोगों की तलाश है.

अधिकारियों के मुताबिक़ डॉक्टर पारीक को उस वक्त पकड़ा गया जब वो जयपुर- दिल्ली राजमार्ग पर अपनी कार में उपकरणों के साथ भ्रूण लिंग परीक्षण करती पाई गई.

जाल बिछाया

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

राजस्थान में नेशनल हेल्थ मिशन के निदेशक नवीन जैन ने बताया कि यह पहला मामला है जब कोई डॉक्टर चलती कार में भ्रूण परीक्षण में शामिल पाया गया है.

हेल्थ मिशन को जानकारी मिली थी कि डॉक्टर पारीक चलते वाहन में भ्रूण लिंग परीक्षण का काम करती हैं. महकमे ने उन्हें रंगे हाथ पकड़ने के लिए जाल बिछाया और एक गर्भवती महिला को उनके घर भेजा.

डॉक्टर पारीक ने तेरह हजार रूपये में यह सौदा करना स्वीकार कर लिया.

अधिकारियों ने बताया कि जैसे ही राजमार्ग पर डॉक्टर पारीक और उसके साथियों ने भ्रूण परीक्षण किया, इशारा मिलते ही उसे गिरफ्तार कर लिया गया. मगर इस काम में लगे दो लोग फरार हो गए. इनमें एक सोनोलॉजिस्ट और एक ड्राइवर भी शामिल है.

दस्तक

सरकार ने भ्रूण परीक्षण रोकने के लिए सोनोग्राफी केन्द्रों पर निगरानी के लिए एक्टिव ट्रैकर लगा रखे हैं. इससे पहले झुंझुनू में बीते साल सोनोग्राफी की पोर्टेबल मशीन पकड़ी गयी थी.

सरकार नए नियमों के मुताबिक़ भ्रूण लिंग परीक्षण की सूचना देने पर दो लाख रुपए तक का इनाम देती है.

सामाजिक संस्था 'प्रयास' के डॉक्टर नरेंद्र गुप्ता चिंता के लहजे में कहते हैं, "अब कुछ लोग ऐसी तकनीक लेकर दूर दराज के इलाकों तक पहुंचने लगे हैं. अब तक आदिवासी बहुल इलाके भ्रूण लिंग परीक्षण से अछूते थे. वहां लिंग अनुपात आम तौर पर अच्छा रहा है ,लेकिन अब ऐसे स्वार्थी लोग वहां भी दस्तक देने लगे हैं."

कन्या भ्रूण हत्या रोकने का अलख जगा रहे संगठनों के मुताबिक़, 2001 की जनगणना में राजस्थान में बाल लिंग अनुपात 909 था जो 2011 के गणना में घट कर 883 हो गया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार