पिता ही मेरे हीरो हैं: प्रिया दत्त

  • 6 जून 2015
प्रिया दत्त भाई संजय के साथ इमेज कॉपीरइट BBC World Service

सांसद प्रिया दत्त अपने पिता और फ़िल्म अभिनेता सुनील दत्त को याद करके काफ़ी भावुक हो उठती हैं.

सुनील दत्त को याद करते हुए प्रिया कहती हैं कि वे बहुत खुशनसीब थीं कि उन्हें पिता के साथ काफ़ी वक़्त बिताने का मौका मिला.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

वे कहती हैं,"पहली बार ज़िंदगी में उन्होंने मुंबई से अमृतसर तक की पदयात्रा 78 दिनों में की. मैंने अपने पिता को पहली बार पिता से हट कर एक दूूसरे किरदार में देखा था. पहले मुझे राजनीति में आने को लेकर बहुत हिचकिचाहट थी. उस सफ़र ने मुझमें एक अजीब सा आत्मविश्वास पैदा कर दिया."

छह महीने अस्पताल में भर्ती

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

प्रिया का मानना है कि सुनील दत्त ने ज़िन्दगी में बहुत उतार चढ़ाव देखे और काफ़ी कुछ सहा.

वे कहती हैं, "उन्होंने दुख की घड़ी में भी हमें एक साथ बांधे रखने की बहुत कोशिश की. मां के गुज़र जाने के बाद मेरे भाई से जुड़े कई मुद्दों को लेकर तक़लीफ़ें थमी नहीं थीं कि वे बीमार हुए. छह महीने अस्पताल में भर्ती रहे. बहुत कम लोग जानते हैं कि उनका प्लेन क्रैश हुआ था और उसके बाद उन्हें लकवा मार गया था. डॉक्टरों ने भी कह दिया था कि वो कभी अपने पैरों पर खड़े नहीं हो पाएंगे. लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और 6 महीने बाद अपने पैरों पर चलकर अस्पताल से बाहर निकले."

'मां की मौत से टूट गए'

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

प्रिया दत्त अपने पिता को अपना आदर्श मानती हैं.

वह कहती हैं, "पिता ही मेरे हीरो हैं. उनके लिए सबसे मुश्किल था तीन किशोर बच्चों की परवरिश करना. उन्हें मां और पिता, दोनों ही किरदार निभाने पड़ते थे. उन्होंने हमें ये कभी अफ़सोस नहीं होने दिया कि हमारी मां नहीं थीं. हालांकि मां की मृत्यु के बाद पिता जी बहुत टूट चुके थे, लेकिन उन्होंने ज़िंदगी से हार नहीं मानी."

'कभी ना भूलने वाली फ़िल्म'

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

सुनील दत्त की फिल्मों का ज़िक्र होता है तो प्रिया कहती हैं, "मेरे पिता ने कई फ़िल्में की, लेकिन मुझे उनकी फ़िल्म रेशमा और शेरा बेहद पसंद थी, हालांकि वो फ़िल्म उस दौरान चली नहीं थी. लेकिन मुझे वो एक ऐसी कमाल की फ़िल्म लगी जिसे मैं कई बार देख सकती हूं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार