फ़्लिपकार्ट के 'ऑफ़र का सच'!

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

ऑनलाइन रिटेल कंपनी फ़्लिपकार्ट के एक उत्पाद की क़ीमत बढ़ाकर लिखने के माममें में सोशल मीडिया पर काफी चर्चा है.

हालांकि फ़्लिपकार्ट ने इस मामले पर माफ़ी भी मांगी है.

एक फ़ेसबुक यूज़र मणिशंकर सेन ने फ़्लिपकार्ट के एक उत्पाद की तस्वीर अपनी टाइमलाइन पर डाली है, जिसे क़रीब छह हज़ार बार शेयर किया गया है.

जो तस्वीर पोस्ट की गई है उसमें फ़्लिपकार्ट वेबसाइट के एक उत्पाद की क़ीमत 799 रुपए दिखाई गई है, जिसमें 50 प्रतिशत छूट देते हुए उत्पाद की कीमत 399 रुपए दर्शाई गई है.

मणिशंकर सेन ने अपनी टाइमलाइन पर इस फोटो को ज़ूम कर उत्पाद पर लिखी इसकी वास्तविक कीमत को दिखाया है और हैरानी की बात ये है कि ये कीमत भी 399 रुपए ही थी.

ग़ुस्सा

इस फोटो को पोस्ट करने के साथ सेन ने लिखा, ''प्रिय फ़्लिपकार्ट टीम... जब भी हम आॅनलाइन शॉपिंग के बारे में सोचते हैं, हम सबसे पहले आपकी साइट पर ही उस उत्पाद को ढूंढते हैं. आपने भारत में एक बड़ी ब्रैंड वैल्यू बना ली है, लेकिन इस तरह की घटनाएं आपकी ब्रैंड वैल्यू के साथ ग्राहकों के भरोसे को भी तोड़ती हैं.''

इस पोस्ट के बाद कई लोगों ने फ़्लिपकार्ट की सर्विस के ख़िलाफ अपना ग़ुस्सा ज़ाहिर किया है. एक यूज़र सर्वेश के वर्मा ने लिखा, ''यह सीधे-सीधे धोखाधड़ी का मामला है.''

एक अन्य यूज़र तन्मय कंवर ने लिखा, ''ये तो इनका हमेशा का है. यहां कुछ भी ख़रीदने से पहले उसके दाम बाज़ार में पता करें. इनके फर्ज़ी डिस्काउंट की पोल खुल जाएगी.''

एक अन्य यूज़र विक्रम राय ने लिखा, ''चिंता मत कीजिए, अगली बार से वो अपने उत्पाद पर दाम ही नहीं लिखेंगे. यही होगा उनका मामले को सही करने का तरीका.''

समर्थन भी

कर्शित जायसवाल लिखते हैं, ''फ़्लिपकार्ट अलग-अलग कंपनियों के उत्पादों को बेचने का एक प्लेटफॉर्म है और वो उसमें बेस्ट हैं. मुझे लगता है कि इसमें उस उत्पाद को बनाने वाली कंपनी की गलती है, न कि फ़्लिपकार्ट की.''

वहीं आदित्य चव्हाण ने लिखा, ''दोस्तों उनको बख़्श दीजिए, हम सभी से ग़लती होती है. वो जल्द ही अपनी ग़लती सुधार लेंगे. आज आॅनलाइन शॉपिंग में जो भी क्रांति हुई है वो फ़्लिपकार्ट का ही नतीजा है.''

मणिशंकर के पोस्ट पर फ़्लिपकार्ट ने माफ़ी मांगी है. फ़्लिपकार्ट ने लिखा, ''मणि इस बारे में हम माफ़ी मांगते हैं. हम इसे जल्द से जल्द सही करवाएंगे. इसे हमारे सामने लाने का शुक्रिया.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)