मुठभेड़ में नक्सली नेता आरकेजी भी मारे गए

झारखंड मुठभेड़ इमेज कॉपीरइट Gaurav Prakash

झारखंड में हुई कथित मुठभेड़ में नक्सल नेता आरकेजी उर्फ़ अनुराग उर्फ़ डॉक्टर भी मारे गए हैं.

नक्सल प्रभावित पलामू के बकोरिया पहाड़ के पास मंगलवार को हुई कथित मुठभेड़ में 12 नक्सली मारे गए हैं.

झारखंड पुलिस के प्रवक्ता पुलिस अभियानों के सह उप महानिदेशक एसएन प्रधान ने आरकेजी के मारे जाने की पुष्टि की है.

पुलिस का दावा है कि इस मुठभेड़ में आरकेजी का भतीजा भी मारा गया है.

पुलिस का कहना है कि आरकेजी पर दस लाख रुपये का इनाम था और वे नक्सलियों का इलाज भी करते थे.

इसके अलावा उन्हें बारूदी सुंरग बिछाने और आइडी प्लांट करने में भी महारत हासिल थी.

पुलिस का दावा है कि साल 2013 के जनवरी महीने में लातेहार ज़िले के कटिया जंगल में हुए मुठभेड़ में मारे गए पुलिसकर्मियों के पेट में आरकेजी ने ही बम प्लांट किए थे.

इमेज कॉपीरइट Gaurav Prakash

पांच की शिनाख्त

पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि मारे गए 12 माओवादियों में से पांच की पहचान कर ली गई है.

सभी शवों को पुलिस ने कब्ज़े में कर लिया है. शवों को पोस्टमार्टम के लिए डाल्टनगंज सदर अस्पताल लाया गया है.

डीजीपी पहुंचे

इस बीच राज्य के अपर पुलिस महानिदेशक डीके पांडेय ने पलामू जाकर घटना स्थल का जायज़ा लिया.

उन्होंने मुठभेड़ को पुलिस की बड़ी सफलता बताते हुए इसमें शामिल पुलिसकर्मियों को इनाम देने की घोषणा की है.

इमेज कॉपीरइट Gaurav Prakash

तलाशी अभियान जारी

इस बीच पलामू के एसपी मयूर पटेल ने बताया है कि माओवादियों के ख़िलाफ़ तलाशी अभियान जारी है. वे ख़ुद इलाके में कैंप कर रहे हैं.

मुठभेड़ में पुलिसकर्मियों के घायल होने के सवाल पर उनका कहना था कि कुछ को मामूली चोटें आई हैं. अभी हमारा पूरा ध्यान मोर्चे पर है.

हथियार बरामद

मुठभेड़ में मारे गए माओवादियों के पास से पुलिस ने आठ राइफलें, मैगज़ीन, 250 गोलियां, डेटोनेटर, खाने का सामान, दवा, सोलर लाइट, वॉकी-टॉकी, नक्सली साहित्य, प्रेशर बम, वर्दियों समेत एक स्कार्पियो कार भी बरामद की है.

इमेज कॉपीरइट Gaurav Prakash

दो वाहनों पर सवार थे

पुलिस के मुताबिक सोमवार की देर रेत माओवादी दो वाहनों पर सवार होकर भलवही-कुंदरी रोड से जा रहे थे. इस सूचना पर ज़िला पुलिस, सीआरपीएफ़, कोबरा व जगुआर बलों के जवानों ने मोर्चाबंदी की.

पुलिस का कहना है कि पहले माओवादियों की ओर से फ़ायरिंग की गई जिसके जवाब में पुलिस ने फ़ायरिंग की.

पुलिस के मुताबिक एक वाहन मौक़े से फ़रार होने में सफल रहा.

कुमडीह

पुलिस के मुताबिक आरकेजी का यह दस्ता कई दिनों से लातेहार के कुमडीर इलाके में था. कुमडीह में पुलिस पिकेट खोलने की तैयारी चल रही है. हथियारबंद लोग नहीं चाहते थे कि पुलिस की पिकेट खुले.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार