बिहार में मोदी ही होंगे चेहरा, सुशील नहीं नरेंद्र

modi इमेज कॉपीरइट AFP

भारतीय जनता पार्टी बिहार में मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित नहीं करेगी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम पर ही वोट मांगेगी.

भाजपा के बिहार के चुनाव प्रभारी अनंत कुमार ने मंगलवार को पटना में यह जानकारी दी.

बिहार में भाजपा का चेहरा कौन होगा? पटना एयरपोर्ट के बाहर पत्रकारों के इस सवाल के जवाब में केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार ने कहा, ‘‘राजद-जदयू गठबंधन का चेहरा जंगलराज का हो चुका है. नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में हमारा चेहरा सुशासन और सुराज का चेहरा है. इसलिए लोग इस चेहरे को ही अपनाएंगे.’’

गौरतलब है कि अनंत कुमार को भाजपा ने इस साल सिंतबर-अक्तूबर में होने वाले बिहार विधानसभा चुनाव के लिए चुनाव प्रभारी बनाया है जबकि एक और केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान सह प्रभारी बनाए गए हैं.

चुनाव प्रभारी बनाए जाने के बाद अनंत पहली बार मंगलवार को दो और केंद्रीय मंत्रियों नरेंद्र सिंह तोमर और संतोष गंगवार के साथ पटना पहुंचे.

बयान की अहमियत

इमेज कॉपीरइट manish shandilya

अनंत बेगूसराय में भाजपा के एक सम्मेलन को संबोधित करेंगे.

अनंत कुमार का बयान इस मायने में महत्त्वपूर्ण माना जा रहा है क्योंकि बिहार में भाजपा के आधा दर्जन से अधिक नेता मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनने की दौड़ में शामिल माने जाते हैं.

राजनीतिक विश्लेषकों के मुताबिक़ भाजपा नहीं चाहती है कि वह किसी एक को नेता घोषित कर बाक़ी जातीय समूहों को नाराज करे.

नेतृत्व को लेकर मचे अंदरूनी खींचतान के बीच भाजपा जातीय संतुलन बैठाने के लिए बिहार में इस पेशोपेश में है कि वह नीतीश के मुक़ाबले अपना मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित करे या नहीं.

इस बीच सोमवार कल एक बार फिर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राजद अध्यक्ष लालू यादव ने भारतीय जनता पार्टी को चुनौती दी कि वह भी अपना नेता घोषित करे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)