मोदी के साथ हज़ारों का योग

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

पहले अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ हज़ारों लोगों ने योग किया.

राजपथ पर आयोजित मुख्य कार्यक्रम में भी हज़ारों लोग मौजूद थे. इनमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, योग गुरु रामदेव और योग मंत्री श्रीपद यशो नाइक के अलावा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी शामिल थे.

ख़ुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कार्यक्रम में योग किया.

इमेज कॉपीरइट Narendra Modi

उन्होंने कहा, "योग किस भूभाग में पैदा हुआ, किस भूभाग तक फैला, मेरे लिए उसका ज़्यादा महत्व नहीं है. यह ऐसी विद्या है जिसमें विश्व के सभी लोगों ने अपना-अपना योगदान दिया."

वर्ल्ड रिकॉर्ड

प्रशासन का दावा है कि कार्यक्रम में एक साथ 35,000 नौकरशाह, कर्मचारी, सैनिक, छात्र मौजूद रहे. मकसद था एक जगह पर योग करने का नया गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाना.

कार्यक्रम में मुस्लिम समुदाय के कुछ लोग भी मौजूद थे. दिल्ली में योग कार्यक्रम के लिए कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई थी. पुलिस और अर्धसैनिक बलों के हज़ारों जवानों को तैनात किया गया था.

इमेज कॉपीरइट

भारत के रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि सियाचिन ग्लेशियर और समुद्र में नौसेना के जहाज़ों पर भी योग किया जाएगा.

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ख़ुद न्यूयॉर्क में मौजूद हैं जहां वह संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून के साथ कार्यक्रम में होंगी. समझा जा रहा है कि टाइम्स स्क्वेयर में होने वाले कार्यक्रम में करीब 30,000 लोग मौजूद होंगे.

विवाद

इमेज कॉपीरइट

"सद्भाव और शांति" प्रेरित करने के लिए किए जा रहे इस कार्यक्रम का कुछ मुस्लिम संगठनों ने ये कहकर विरोध किया था कि योग एक हिंदू धार्मिक क्रिया है और इस्लाम के ख़िलाफ़ है.

कई लोगों का ये भी कहना है कि नरेंद्र मोदी की सरकार अपना 'हिंदुत्व एजेंडा' अल्पसंख्यकों पर थोपना चाहती है. हालांकि सरकार का कहना है कि कार्यक्रम में शामिल होना अनिवार्य नहीं है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते साल संयुक्त राष्ट्र के मंच से योग का महत्व बताया था.

इसके बाद संयुक्त राष्ट्र ने घोषणा की थी कि 21 जून अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के तौर पर मनाया जाएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार