'पीएम निद्रासन तोड़ें, मन की बात कहें'

नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट EPA

कांग्रेस ने ललित मोदी कांड पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चुप्पी पर सवाल उठाए हैं.

सोमवार को एक प्रेस वार्ता में पूर्व केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश ने कहा, "योग दिवस हो चुका है, पीएम अभी तक मौन व्रत पर बैठे हुए हैं. वे मौन व्रत तोड़ें और अपने मन की बात कहें."

उन्होंने कहा कि पीएम को ललित मोदी कांड में वरिष्ठ मंत्रियों के शामिल होने पर देशवासियों को विश्वास में लेने की ज़रूरत है.

कांग्रेस ने इस मुद्दे पर पहले मोदी से 34 सवाल पूछे थे. आज भी पांच सवाल पूछे.

जयराम रमेश ने कहा कि वित्त मंत्री अरूण जेटली का राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और उनके बेटे को क्लीन चिट देना प्रवर्तन निदेशालय की जांच में हस्तक्षेप है.

जांच

इमेज कॉपीरइट AP

पूर्व केंद्रीय मंत्री ग़ुलाम नबी आज़ाद ने कहा, "इस मामले पर प्रधानमंत्री की चुप्पी बताती है कि उन्होंने ये सब हो जाने दिया. अब हमें लगता है कि प्रधानमंत्री भी इसमें शामिल हैं."

उन्होंने यह सवाल भी उठाया कि वित्त मंत्री अरुण जेटली ने ऐसे ललित मोदी और वसुंधरा राजे के बेटे को क्लीन चिट क्यों दी जब प्रवर्तन निदेशालय की जांच जारी है. क्या इसका मतलब ये नहीं कि निदेशालय की जांच बंद कर दी गई है?

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे पर आईपीएल की पूर्व कमिश्नर ललित मोदी की मदद करने के आरोप लगे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार