'डर तो है, लेकिन दूल्हा घोड़ी ही चढ़ेगा'

दलित दूल्हे, घोड़ी पर इमेज कॉपीरइट Abha Sharma

प्रेम बाई अपने बेटे की शादी में बनी मिठाइयों से बची हुई चाशनी से चीनी बना रही हैं लेकिन यह चिंता उन्हें खाए जा रही है कि कहीं कुछ दिन बाद यह मिठास कड़वाहट में न बदल जाए.

उनके छोटे बेटे 23 वर्षीय अनिल रैगर की चार जून को शादी हुई थी और घर के युवाओं की ज़िद के चलते पहली बार उनका बेटा घोड़ी पर बैठा.

राजस्थान के कोटपुतली तहसील के पाथरेड़ी गांव के उनके दलित परिवार की सात पीढ़ियों में ऐसा पहली बार हुआ कि कोई दूल्हा घोड़ी पर बैठकर कुलदेवता भोमियांजी के मंदिर गया और दुल्हन के घर भी.

यह सब प्रशासन की मदद और कोई 100-125 पुलिसकर्मियों की मौजूदगी में हुआ. क्योंकि इस परिवार को आशंका थी कि गाँव के उच्च जाति-वर्ग के लोग इसका विरोध कर सकते हैं.

'अब बड़े बन गए'

इमेज कॉपीरइट Suresh Chand Satholia

परिवार की प्रार्थना पर प्रशासन ने अन्य जाति के लोगों को 'छह महीने के लिए पाबन्द' कर दिया है.

प्रेम बाई ने बीबीसी को बताया कि वह 'बेहद डरी हुई थीं और उन्हें रक्तचाप बढ़ गया था.'

उन्होंने तीन दिन तक खाना नहीं खाया. लोगों की बातों से वह और परेशान न हों इसलिए घरवालों ने उन्हें एक कमरे में बंद कर दिया.

करीब 22 साल पहले परिवार की एक शादी में बान बिन्दौरी (विवाहपूर्व मंगल प्रसंग का एक रिवाज़) निकालने को लेकर ज़बरदस्त संघर्ष हो गया था.

वह डर रही थीं कि "हम छोटी जात वाले कभी घोड़ी पर नहीं चढ़े. अब सब कह रहे हैं कि क्या हम उनसे बड़े बन गए?"

दूल्हे के पिता नाथूराम अटल और दादा पांचूराम का भी ऐसा कोई आग्रह नहीं था पर दूल्हे के बड़े भाई इंद्रराज ने ठान रखी थी कि उनके भाई की बारात घोड़ी पर ही निकलेगी. उन्होंने प्रशासन और पुलिस की मदद ली ताकि कोई रुकावट न हो.

अनिल के 75 वर्षीय दादा कहते हैं कि वह अपनी शादी में 'पैदल' ही गए थे. हंसते हुए वह बताते हैं कि उनके पांवों में कितनी धूल चढ़ गई थी. वह पढ़े भी नहीं क्योंकि उनके गाँव के स्कूल में कोई 'रैगरों का बच्चा' आ जाता तो उसे कहा जाता कि परे बैठ यानि दूर बैठ.

इमेज कॉपीरइट Suresh Chand Satholia

उनके बेटे नाथूराम भी पैदल ही प्रेम देवी को ब्याहने गए थे.

'सपना सच हुआ'

इंद्रराज कहते हैं कि शिक्षा और जागरूकता की कमी के चलते उनका परिवार अभी तक यह हिम्मत नहीं कर पाया. वैसे पाथरेड़ी की करीबी ढाणियों में भी अब सामान्य रूप से दलित बारातें निकलती हैं.

वहां से 25 किलोमीटर दूर उनके गांव सहित कोई चार-पांच स्थान ही ऐसे बचे हैं जहां दलित अब भी गांव के मुख्य मार्ग से बारात निकालने से डरते हैं.

दूल्हे अनिल ने बीबीसी से बातचीत में कहा कि "मेरा शुरू से ही यह सपना था. घोड़ी पर बैठकर जाने की बात ही कुछ अलग होती है. पैदल जाओ तो लगता है जैसे रैली में जा रहे हों."

वह अपने बड़े भाई के प्रति बहुत शुक्रगुजार है जिनकी मेहनत से यह सपना सच हुआ.

इमेज कॉपीरइट Abha Sharma

राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 8 से महज छह किलोमीटर दूर करीब 4,200 वोटरों वाले इस गाँव में दलित परिवारों के मुकाबले ठाकुर और मीणा जाति के घर अधिक हैं.

गांव के 80 वर्षीय बुजुर्ग गोपीराम मीणा कहते हैं कि पहले घोड़े या ऊंट गाड़ियों से बारात ले जाना 'सामर्थ्य' पर निर्भर था.

हुक्का गुड़गुड़ाते हुए वह थोड़ा मुस्कुराते हैं और कहते हैं कि जब 1949 में उनकी शादी हुई तो वह भी पैदल ही मंदिर तक गए थे. उस ज़माने में अधिकतर लोग पैदल ही यात्रा करते थे या ऊंट गाड़ी पर चलते थे.

'सामर्थ्य'

पाथरेड़ी ग्राम पंचायत के सरपंच शम्भू दयाल मीणा कहते हैं कि पहले दलित परिवार इतने सक्षम नहीं थे, कुछ पैसे की कमी भी थी. अब सभी पढ़े-लिखे शिक्षित हैं.

वह कहते हैं, "हमारा तो यह भाव है कि सब समान होना चाहिए, कोई भेदभाव नहीं बरता जाएगा और न ही बरत रहे हैं. हमने, प्रशासन ने खूब धूमधाम से इनकी शादी करवाई है."

पाथरेड़ी में एक नई शुरुआत हुई है.

इमेज कॉपीरइट Abha Sharma

राज्य के दलित मानव अधिकार केंद्र समिति के अध्यक्ष पी एल मीमरोठ ने हाल ही में एक जनहित याचिका दायर कर कोर्ट से दलित बारातों से बदसलूकी का संज्ञान लेने का आग्रह किया है.

याचिका के अनुसार गत तीन सालों में राज्य में दलित दूल्हों को घोड़ी पर से उतार देने, बाधा डालने या बारातियों के साथ बदसलूकी की 26 घटनाएं दर्ज हुई हैं. इनमें से करीब 20 घटनाएं 2014 में दर्ज की गई हैं.

'घोड़ी पर ही जाएंगे'

इंद्रराज सवाई माधोपुर में शिक्षक हैं और आनाे वाले नवम्बर में उनकी शादी है. उनका विश्वास है कि "दो-चार बारातें बिना विघ्न के निकल जाएं तो फिर आगे कोई दिक्कत नहीं."

वह कहते हैं कि "मैं डरता नहीं पर उड़ती-उड़ती धमकियों कि 'छह महीने बाद देख लेंगे' को लेकर परिवार के प्रति चिंतित ज़रूर हूं. इसीलिए सरकार से तबादले की गुज़ारिश की है."

वैसे इस दलित परिवार की युवा पीढ़ी अपने निश्चय पर अटल है कि वे अपनी शादी में घोड़ी पर ज़रूर चढ़ेंगे.

छोटी बहन कविता को भी उस दिन का इंतजार है जब उसका दूल्हा भी घोड़ी पर सवार होकर उसे लेने आएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार