ट्विटर पर क्यों छाए हामिद अंसारी

इमेज कॉपीरइट AP

भारत के उप राष्ट्रपति कार्यालय ने यह ख़ुलासा किया कि दिल्ली में आयोजित अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के कार्यक्रम में उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी को निमंत्रित नहीं किया गया था इसके बाद ट्विटर पर हैशटैग #IStandWithHamidAnsari के साथ समर्थकों ने अपनी प्रतिक्रियाएं देनी शुरू कर दीं.

हालांकि इस आयोजन में भारत के उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी की ग़ैर-मौजूदगी पर पूर्व राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) नेता और सत्तासीन पार्टी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के महासचिव राम माधव ने ट्वीट करके सवाल किया.

हटा ट्वीट

इमेज कॉपीरइट EPA

बाद के ट्वीट में माधव ने कहा कि उपराष्ट्रपति की तबीयत ठीक नहीं थी. बाद में दोनों ही ट्वीट हटा दिए गए.

उपराष्ट्रपति कार्यालय की तरफ़ से बयान आया कि अंसारी की तबीयत बिल्कुल ठीक है लेकिन उन्हें इस कार्यक्रम के लिए आयोजित नहीं किया गया था.

आयुष मंत्रालय के राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्रीपद नाइक ने कहा, "जब हम प्रधानमंत्री को निमंत्रित करते हैं तो हम उप-राष्ट्रपति को नहीं बुला सकते हैं."

इमेज कॉपीरइट AP

ट्विटर पर अंसारी के समर्थकों ने हैशटैग #IStandwithHamidAnsari के साथ ख़ूब ट्वीट किया. भारत में 22 जून को ट्विटर पर यह हैशटैग टॉप ट्रेंड में रहा और चार घंटे में 4,500 से ज़्यादा बार इसका इस्तेमाल किया गया.

समर्थकों के सुर

अंसारी का समर्थन और राम माधव की आलोचना करने वाले ज़्यादातर अकाउंट विपक्षी दल कांग्रेस से जुड़े हैं.

इस हैशटैग का इस्तेमाल करने वाले पहले यूज़र गौरव पांधी हैं जिनके ट्विटर पर उन्हें कांग्रेस का समर्थक बताया गया है. उन्होंने ट्वीट किया, "@राममाधवबीजेपी, उपराष्ट्रपति अंसारी बीमार नहीं हैं, बल्कि आप बीमार हैं और योग भी आपकी बीमारी को दूर नहीं कर सकता है."

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

पत्रकार शेखर गुप्ता (‏@ShekharGupta ) ने ट्वीट कर इस पूरे मामले को शर्मनाक करार दिया है.

अशोक (@MalikAshok ) मलिक ने ट्वीट किया है, “भाजपा को चाहिए कि वह उप राष्ट्रपति के साथ ज्यादा सावधानी से बर्ताव करे.”

बरखा दत्त (@BDUTT ) लिखती हैं, “सभी मामलों में अहम आड़े नहीं आ सकता. इस अध्याय को बंद करने के लिए हामिद अंसारी से माफ़ी मांग लेनी चाहिए.”

आतिशी मर्लिना (@AtishiMarlena) ने ट्वीट किया, यह दूसरा मौका है हामिद अंसारी को सार्वजनिक रूप से अपमानित किया गया है. क्या यह महज़ संयोग है?”

(बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप बीबीसी मॉनिटरिंग की खबरें ट्विटर और फ़ेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार