पंकजा मुंडे पर भ्रष्टाचार के आरोप

पंकजा मुंडे इमेज कॉपीरइट pankaja munde fb page

महाराष्ट्र की महिला और बाल विकास मंत्री पंकजा मुंडे ने भ्रष्टाचार के आरोपों पर सफ़ाई दी है.

मराठी अख़बार सकाल में छपी एक ख़बर के अनुसार पंकजा मुंडे के विभाग में 206 करोड़ रुपए की ख़रीद की गई थी.

कांग्रेस का आरोप है कि ये ख़रीद नियमों को नज़रंदाज़ कर की गई और इसके लिए टेंडर नहीं बुलाया गया था.

हालांकि पंकजा मुंडे ने इन आरोपों को ग़लत बताया है. पंकजा फ़िलहाल लंदन में हैं.

आरोप

इमेज कॉपीरइट PTI

पंकजा ने बयान में कहा है, "यह पैसा इसी महीने ख़र्च करना ज़रूरी था, वर्ना सारा पैसा वापस चला जाता और फिर मिलने में काफ़ी कठिनाइयां आती. इस मामले में सारे निर्णय केंद्र सरकार के डायरेक्टर जनरल ऑफ़ सप्लाइज एंड डिस्पोजल्स के नियमों के अनुसार किए गए हैं इसलिए ई-टेंडरिंग का सवाल ही पैदा नहीं होता."

पंकजा ने ये भी कहा है कि ई-टेंडरिंग के संबंध में आदेश जारी होने से पहले यह ख़रीद की गई.

इमेज कॉपीरइट AP

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने भी पंकजा का बचाव किया है. उन्होंने कहा है कि पहली नज़र में इसमें कोई भ्रष्टाचार नज़र नहीं आता.

वहीं कांग्रेस प्रवक्ता सचिन सावंत ने बीबीसी को कहा, "अब तक प्राप्त जानकारी के आधार पर हम यह कह सकते है कि मुख्यमंत्री इस मामले में लोगों को गुमराह कर रहे हैं."

महाराष्ट्र में भाजपा और शिवसेना की सरकार बनने के बाद से ये पहला मौका है जब इस पैमाने के किसी कथित घोटाले के आरोप लगे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार