आम आदमी पार्टी को क़ानूनी नोटिस

आम आदमी पार्टी का चुनाव चिह्न झाड़ू इमेज कॉपीरइट Reuters

आम आदमी पार्टी का लोगो डिज़ाइन करने वाले सुनील लाल ने पार्टी को क़ानूनी नोटिस भेजा है.

सुनील लाल ने आरोप लगाया है कि उनके विरोध दर्ज़ कराने के बावजूद 'आप' ने अपनी वेबसाइट से वह लोगो नहीं हटाया है.

उनके वक़ील अविनाश चंद्र ने नोटिस में ‘आप’ को पंद्रह दिन का समय देते हुए कहा है कि निर्धारित समय के अंदर जवाब नहीं मिला तो वे मामला अदालत ले जाएंगे.

इस्तीफ़ा

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

आम आदमी पार्टी के मीडिया कोऑर्डिनेटर दीपक बाजपेयी ने कहा कि उन्होंने अब तक क़ानूनी नोटिस नहीं देखा है.

इसके साथ ही उन्होंने बीबीसी से कहा, "हम लोगो नहीं हटाएंगे."

सुनील लाल का कहना है कि अन्ना हज़ारे के ‘इंडिया अगेंस्ट करप्शन’ के आंदोलन की ब्रांडिंग के लिए ‘ iacbranding.org’ नाम से एक वेब पोर्टल शुरू किया था. उन्होंने 'आप' का लोगो इसी पर डिज़ाइन किया था.

सुनील लाल ने पार्टी से मोहभंग होने के बाद 'आप’ से इस्तीफ़ा दे दिया और पार्टी संयोजक अरविंद केजरीवाल को चिट्ठी लिख कर अपना लोगो वापस मांगा.

मालिकाना हक़

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

सुनील ने ख़त में लिखा था कि उनके डिज़ाइन किए लोगो का इस्तेमाल झंडों, पोस्टरों, बिल वग़ैरह पर इस्तेमाल न किया जाए.

सुनील लाल का दावा है कि लोगो उनकी बौद्धिक संपत्ति है, जिसका मालिकाना हक़ उन्होंने पार्टी को कभी भी नहीं दिया था.

पेशे से विज्ञापन डिज़ाइनर लाल का कहना है कि उन्होंने स्वेच्छा से लोगो डिज़ाइन किया था, जिसे जुलाई 2013 में पार्टी ने अपना लिया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार