आत्मसमर्पण के लिए दाऊद ने शर्त रखी थी: पवार

  • 4 जुलाई 2015
शरद पवार इमेज कॉपीरइट PTI

राष्ट्रवादी कांग्रेस के अध्यक्ष और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री शरद पवार ने माना है कि उनके मुख्यमंत्री पद के कार्यकाल में वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी के ज़रिए अंडरवर्ल्ड सरगना दाऊद इब्राहिम और छोटा शकील ने आत्मसमर्पण का प्रस्ताव भेजा था.

लेकिन दाऊद की शर्ते मानी नहीं जा सकती थीं इसलिए वह प्रस्ताव ठुकरा दिया गया था.

मुंबई में जारी बयान में पवार ने कहा, "वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी दाऊद इब्राहिम और छोटा शकील के आत्मसमर्पण का प्रस्ताव लेकर आए थे. दोनों 1993 मुंबई बम धमाकों के बाद भारत वापस आना चाहते थे. लेकिन उनकी शर्त थी कि उन्हें गिरफ्तार न किया जाए और अपने घर में रहने दिया जाए."

गेंद फिर जेठमलानी के पाले में

Image caption दाउद इब्राहिम ने गिरफ्तार ना किए जाने की शर्त पर आत्मसमर्पण का प्रस्ताव भेजा था

शरद पवार ने कहा कि दाऊद और छोटा शकील के खिलाफ काफी संगीन मामले दर्ज हैं और देश के कानून से कोई भी बड़ा नही है.

उनका कहना था, "शर्तों को किसी भी हाल में हम मान नहीं सकते थे. इसलिए उनके आत्मसमर्पण का प्रस्ताव ठुकरा दिया गया था."

राम जेठमलानी ने एक अख़बार को दिए इंटरव्यू में दावा किया था कि 1993 मुंबई बम धमाकों के बाद दाऊद इब्राहिम और छोटा शकील का आत्मसमर्पण शरद पवार की वजह से नहीं हो सका था.

लेकिन शरद पवार ने गेंद फिर जेठमलानी के पाले में डाल दी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार